सुंदर कथा २७ (श्री भक्तमाल – श्री शबरी जी) Sri Bhaktamal- Sri Shabri ji

त्रेतायुगका समय है, वर्णाश्रम धर्मकी पूर्ण प्रतिष्ठा है, वनों-में स्थान-स्थानपर ऋषियो के पवित्र आश्रम बने हुए हैं । तपोधन ऋषियो के यज्ञधूमसे दिशाएँ आच्छादित और वेदध्वनिसे आकाश मुखरित हो रहा है । ऐसे समय दण्डकारण्यमे एक पति-पुत्र-विहीना भक्ति श्रद्धा-सपन्ना भीलनी रहती थी; जिसका नाम था शबरी ।

शबरीने एक बार मतंग ऋषिके दर्शन किये । संत दर्शनसे उसे परम हर्ष हुआ और उसने विचार किया कि यदि मुझसे ऐसे महात्माओ की सेवा बन सके तो मेरा कल्याण होना कोई बडी बात नहीं है । परंतु साथ ही उसे इस बातका भी ध्यान आया कि मुझ नीच कुल में उत्पन्न अधम नारी की सेवा ये स्वीकार कैसे करेंगे ? अन्तमें उसने यह निश्चय किया कि यदि प्रकट रूपसे मेरी सेवा स्वीकार नहीं होती तो न सही, मैं इनकी सेवा अप्रकट रूपसे अवश्य करूँगी ।

यह सोचकर उसने ऋषियोंके आश्रमों से थोडी दूरपर अपनी छोटी सी कुटिया बना ली और कंद-मूल-फलसे अपना उदर पोषण करती हुई वह अप्रकट रूपसे सेवा करने लगी । जिस मार्ग से मुनिगण स्नान करने जाया करते, उषाकालके पूर्व ही उसको झाड़-बुहारकर साफ कर देती, कहीं भी कंकड़ या काँटा नहीं रहने पाता । इसके सिवा वह आश्रमों के समीप ही प्रातः कालके पहले-पहले ईंधन के सूखे ढेर लगा देती ।

शबरीको विश्वास था कि मेरे इस कार्य से दयालु महात्माओ की कृपा मुझपर अवश्य होगी । कँकरीले और कँटीले रास्तेको निष्कण्टक और कंकडो सेे रहित देखकर तथा द्वारपर समिधा का संग्रह देखकर ऋषियो को बडा आश्चर्य हुआ और उन्होंने अपने शिष्यों को यह पता लगानेकी आज्ञा दी कि प्रतिदिन इन कामों को कौन कर जाता है ?आज्ञाकारी शिष्य रातको पहरा देने लगे और उसी दिन रातके पिछले पहर शबरी ईंधनका बोझा रखती हुई पकडी गयी । शबरी बहुत ही डर गयी । शिष्यगण उसे मतंग मुनिके सामने ले  गए और उन्होंने मुनियों कहा -महाराज ! प्रतिदिन रास्ता साफ करने और ईधन रख जानेवाले चोरको आज हमने पकड़ लिया है ।  यह भीलनी ही प्रतिदिन ऐसा किया करती है ।

 शिष्यों की बातको सुनकर भयकातरा शबरी-से मुनिने पूछा ‘ तू कौन है और किसलिये प्रतिदिन मार्ग बुहारने और ईधन लानेका काम करती है ?भक्तिमती शबरीने कांपते हुए अत्यन्त विनय-पूर्वक प्रणाम करके कहा – नाथ ! मेरा नाम शबरी है, मन्द भाग्य से मेरा जन्म नीच कुलमें हुआ है, मैं इसी वनमें रहती हूं और आप जैसे तपोधन मुनियों के दर्शन से अपनेको पवित्र करती हूं ।

अन्य किसी प्रकारक्री सेवा में अपना अनधिकार समझकर मैंने इस प्रकार की सेवा में ही मन लगाया है । भगवन् ! मैं आपकी सेवाके योग्य नहीं । कृपापूर्वक मेरे अपराध को क्षमा करें । शबरी के इन दीन और यथार्थ वचनों को सुनकर मुनि मतंगने दयापरवश हो अपने शिष्यो सेे कहा कि -यह बडी भाग्यवती है, इसे अरश्रम के बाहर एक कुटियामें रहने दो और इसके लिये अन्नादिका उचित प्रबंध कर दो । ऋषि के दयापूर्ण वचन सुनकर शबरीने हाथ जोडकर प्रणाम किया और कहा – कृपानाथ ! मैं तो कंद मूलादि से ही अपना उदर पोषण कर लिया करती हूं ।

आपका अन्न प्रसाद तो मुझे इसीलिये इच्छित है कि इससे मुझपर आपकी अवास्तविक कृपा होगी जिससे मैं कृतार्थ हो सकुंगी । मुझे न तो वैभव की इच्छा है और न मुझे यह असार संसार ही प्रिय लगता है । दीनबन्धो ! मुझें तो आप ऐसा आशीर्वाद दें कि जिससे मेरी सद्गति हो । विनयावनत श्रद्धालु शबरीके ऐसे वचन सुनकर मुनि मतंगने कुछ देर सोच विचारकर प्रेमपूर्वक उससे कहा – हे कल्याणि ! तू निर्भय होकर यहाँ रह और भगवान् के नामका जप किया कर । ऋषिकी कृपासे शबरी जटा चीर धारिणी होकर भगवद्भजनमें निरत हो आश्रममें रहने लगी ।

अन्यान्य ऋषियों को यह बात अच्छी नहीं लगी । उन्होंने मतंग ऋषिसे कह दिया कि आपने नीच जाति की शबरी-को आश्रम में स्थान दिया है, इससे हमलोग आपके साथ भोजन करना तो दूर रहा, संभाषण भी करना नहीं चाहते । भक्तितत्व के मर्मज्ञ मतंगने इन शब्दोंपर कोई ध्यान नहीं दिया । वे इस बातको जानते थे कि ये सब भ्रममें हैं । शबरीके स्वरूपका इन्हें ज्ञान नहीं है, शबरी केवल नीच जाति की साधारण स्त्री ही नहीं है, वह एक भगवद्भक्ति परायण उच्च आत्मा है, ऐसा कौन बुद्धिमान है जो हीन वर्णमें उत्पन्न भगवत्परायण भक्तका आदर न करता हो ?जिस शबरी के हृदयमे: रामका रमण होने लगा था, उससे ऋषि मतंग केसे घृणा कर सकते थे । उन्होंने इस अवहेलना का कुछ भी विचार नहीं किया और वे अपने उपदेश से शबरी की भक्ति बढाते रहे ।

इस प्रकार भगवद् गुण स्मरण और गान करते करते बहुत समय बीत गया । मतंग ऋषिने शरीर छोड़नेकी इच्छा की , यह जानकर शिष्यों को बडा दुख हुआ, शबरी अत्यन्त क्लेशके कारण क्रन्दन करने लगी । गुरुदेव का परमधाममें पधारना उसके लिये असहनीय हो गया । वह बोली – नाथ ! आप अकेले ही न जायं, यह किंकरी भी आपके साथ जाने को तैयार है, विषष्णवदना कृताञ्जलिदीना शबरी को सम्मुख देखकर मतंग ऋषिने कहा- हे सुव्रते ! तू यह विषाद छोड़ दे, भगवान् श्री राम इस समय चित्रक्रूट में हैं । वे यहाँ अवश्य पधारेंगे । उन्हें तू इन्हीं चर्म-चक्षुओं से प्रत्यक्ष देख सकेगी, वे साक्षात् नारायण हैं । उनके दर्शन से तेरा कल्याण हो जायगा । भक्तवत्सल भगवान् जब तेरे आश्रममें पधारें, तब उनका भलीभांति आतिथ्य कर अपने जीवन को सफल करना, तबतक तू श्रीराम नामका जप करती हुई यहीं निवास कर । 

शबरी को इस प्रकार आश्वासन देकर मुनि दिव्य लोक को चले गये । इधर शबरीने श्रीराम नाम में ऐसा मन लगाया कि उसे दूसरी किसी बातका ध्यान ही नहीं रहा। शबरी कंद मूल फलोंपर अपना जीवन निर्वाह करती हुई भगवान् श्रीरामके शुभागमन की प्रतीक्षा करने लगी । ज्यो ज्यो दिन बीतते हैं त्यों त्यों शबरी की राम दर्शन लालसा प्रबल होती जाती है । जरा सा शब्द सुनते ही वह दौड़कर बाहर जाती है और बडी आतुरताके साथ प्रत्येक वृक्ष, लता-पत्र, पुष्प और फलो से तथा पशु पक्षीयों से पूछती है की अब श्रीराम कितनी दूर हैं, यहाँ कब पहुँचेंगे ?  प्रातःकाल कहती है कि भगवान् आज संध्या को आवेंगे । सायंकाल फिर कहती है, कल सबेरे तो अवश्य पधारेंगे । कभी घरके बाहर जाती है, कभी भीतर जाती है । कहीं मेरे

रामके पैरोंमे चोट न लग जाय, इसी चिन्तासे बारम्बार रास्ता साफ करती और कांटे-कंकडों को बुहारती है । घरको नित्य गोबर-गोमूत्र से लीप पोत ठोक कर लेती है । नित नयी मिट्टी गोबर की चौकी बनाती है । कभी चमककर उठती है, कभी बाहर जाती है और सोचती है, भगवान् बाहर आ ही गये होंगे । वनमें जो फल सबसे अधिक सुस्वादु और मीठा लगता है, वही अपने रामके लिये बड़े चावसे रख छोड़ती है । इस प्रकार शबरी उन राजीवलोचन रामके शुभ दर्शन की उत्कण्ठा से रामागमन आकांक्षा से पागल सी हो गयी है । सूखे पत्ते बृक्षों से उड़कर नीचे गिरते हैं तो उनके शब्द को शबरी अपने प्रिय रामके पैरों की आहट समझकर दौड़ती है ।

इस तरह आठों पहर उसका चित्त श्रीराममें रमा रहने लगा, परंतु राम नहीं आये । एक बार मुनिबालको ने कहा- शबरी ! तेरे राम आ रहे हैं ।  फिर क्या था बेर आदि फलो को आँगन में रखकर वह दौडी सरोवर से जल लानेके लिये । प्रेम के उन्मादमे उसे शरीर की सुधि नहीं थी, एक ऋषि स्नान करके लौट रहे थे । शबरीने उन्हें देखा नहीं और उनसे उसका स्पर्श हो गया । मुनि बड़े क्रुद्ध हुए । वे बोले-कैेसी दुष्टा है ! जान बूझकर हमलोगों का अपमान करती है । शबरी ने अपनी धुन में कुछ भी नहीं सुना और वह सरोवर पर चली गयी । ऋषि भी पुन: स्नान करने को उसके पीछे-पीछे गये । ऋषि ने ज्यों ही जलमे प्रवेश किया त्यों ही जलमे कीड़े पड़ गये और उसका वर्ण रुधिर(रक्त) सा हो गया । इत्तनेपर भी उनको यह ज्ञान नहीं हुआ कि यह भगवद्भक्तिपरायणा शबरीके तिरस्कार का फल है ।

 इधर जल लेकर शबरी पहुँच हीे नहीं पायी थी कि उसे भगवान् श्रीराम मेरी शबरी कहां है पूछते हुए दिखाई दिये । यद्यपि अन्यान्य मुनियोंको भी यह निश्चय था कि भगवान् अवश्य पधारेंगे परंतु उनकी ऐसी धारणा थी कि वे सर्वप्रथम हमारे ही यहाँ पदार्पण करेंगे । परंतु दीनवत्सल भगवान श्री रामचन्द्र जब पहले उनके यहाँ न जाकर शबरी की मडैया का पता पूछने लगे तो उन तपोबलके अभिमानी मुनियोंको बडा आश्चर्य हुआ । श्रीरामका अपने प्रति इतना अनुग्रह देखकर शबरी उनकी अगवानी के लिये मनमें अनेक उमंगें करती हुई सामने चली ।

आज शबरीके आनन्दका पार नहीं है । वह प्रेममें पगली
होकर नाचने लगी । हाथसे ताल दे देकर नृत्य करनेमें वह इतनी मग्न हुई कि उसे अपने उत्तरीय वस्त्र तक का ध्यान नहीं रहा, शरीरकी सारी सुध बुध जाती रही। इस तरह शबरी को आन्दसागरमें निमग्न देखकर भगवान् बड़े ही सुखी हुए और उन्होंने मुसकराते हुए लक्ष्मण की ओर देखा। तब लक्ष्मणजीने हंसते हुए गम्भीर स्वर से कहा कि – शबरी ! क्या तू नाचती ही रहेगी ? देख ! श्रीराम कितनी देरसे खड़े है। क्या इनको बैठाकर तू इनका आतिथ्य नहीं करेगी? इन शब्दोंसे शबरी को चेत हुआ और उस धर्मपरायण तापसी सिद्धा संन्यासिनी ने धीमान् श्रीराम लक्ष्मण को देखकर उनके चरणों में हाथ जोड़कर प्रणाम किया और पाद्य आचमन आदिसे उनका पूजन किया । (वाल्मीकि रामायण ३। ७४। ६-७)

भगवान् श्रीराम उस धर्मनिरता शबरीसे पूछने लगे-
हे तपोधने ! तुमने साधनके समस्त विघ्नों पर तो विजय पायी है तुम्हारा तप तो बढ़ रहा है?  तुमने कोप और आहारका संयम तो किया है ? है चारुभाषीणि ! तुम्हारे नियम तो सब बराबर पालन हो रहे हैं ? तुम्हारे मनमें शान्ति तो है ?तुम्हारी गुरुसेवा सफ़ल तो हो गयी ? अब तुम क्या चाहती हो ?

श्री रामके ये वचन सुनकर वह सिद्ध षुरुषोंमें मान्य वृद्धा तापसी बोली – भगवन् ! आप मुझे सिद्धा, सिद्धसम्मता, तापसी आदि कहकर लज्जित न कीजिये । मैंने तो आज़ आपके दर्शनसे ही जन्म सफल कर लिया है। (वाल्मीकि रामायण ३। ७४। ८-९)

हे भगवन् ! आज आपके दर्शन से मेरे सभी तप सिद्ध हो गये हैं, मेरा जन्म सफल हो गया, आज मेरी गुरूओं की पूजा सफल हो गयी, मेरा तप सफल हो गया, हे पुरुषोत्तम ! आप देवताओं में श्रेष्ठ रामकी कृपा से अब मुझे अपने स्वर्गापवर्गमें कोई संदेह नहीं रहा । (वाल्मीकि रामायण ३। ७४। ११ -१२)

शबरी अधिक नहीं बोल सकी । उसका गला प्रेमसे रुँध गया । थोडी देर चुप रहकर फिर बोली, है प्रभो ! आपके लिये संग्रह किये हुए कंद फलादि तो अभी रखे ही हैं । भगवन् ! मुझ अनाथिनी के फलोको ग्रहणकर मेरा मनोरथ सफ़ल कीजिये । यों कहकर शबरी चिरकाल से संग्रह किये हुए फलों को लाकर भगवान् को देने लगी और भगवान् प्रेमसे सने फलोंकी बारबार सराहना करते हुए उन्हें खाने लगे ।

शबरी वनके पके हुए मूल और फलो को स्वयं चख-चखकर परीक्षा कर भगवान् को देने लगी । उसमे अत्यन्त मधुर फल होते वही भगवान् को निवेदन करती । इस प्रकार भगवान् का आदर सत्कार कर शबरी हाथ जोड़कर आगे खडी हो गयी । प्रभु को देखकर उनका प्रेम अत्यन्त बढ गया । उन्होंने कहा मैं किस प्रकार आपकी स्तुति करूँ ? मैं नीच जातिकी और अत्यन्त मूढ़बुद्धि हूं । जो अधमसे भी अधम हैं, स्त्रीयां उनमें भी अत्यन्त अधम हैं, और उनमें भी हे पापनाशन ! मैं मन्दबुद्धि हूँ ।

श्री रघुनाथ जी ने कहा – हे भामिनि! तुम मेरी बात सुनो। मैं एकमात्र भक्तिका नाता मानता हूँ । जो मेरी भक्ति करता है वह मेरा है और मैं उसकी हूं। जाति पाँति, कुल ,बडाई, द्रव्य, बल, कुटुम्ब, गुण, चतुराई सब कुछ हो, पर यदि भक्ति न हो तो वह मनुष्य बिना जलके बादलोंके समान शोभाहीन और व्यर्थ है ।

इसीसे भगवान् श्रीराम कहते हैं –
पुरुषत्व-स्त्रीत्वका भेद या जाति, नाम और आश्रम आदि मेरे भजनमे कारण नहीं हैं, केवल भक्ति ही एक कारण है। (अध्यात्म रामायण ३। १०। २०)

जो मेरी भक्ति से विमुख हैं, यज्ञ, दान, तप और वेदाध्ययन करके भी वे मुझे नहीं देख सकते । (अध्यात्म रामायण ३।१०।२१) यही घोषणा भगवान् ने गीता मे की है ।

इसके बाद भगवान् ने शबरी को नवधा भक्तिका स्वरूप
बतलाया। श्रीराम ने कहा – मेरी भक्ति नौ प्रकार की है( १ ) संतो की संगति अर्थात् सत्सङ्ग, (२) श्रीरामकथा में प्रेम (३) गुरुजनों की सेवा (४) निष्कपट भावसे हरिगुणगान, ( ५ ) पूर्ण विश्वाससे श्री रामनाम जप ( ६) इंद्रीय दमन तथा कर्मोंसे वैराग्य, (७) सबको श्री राममय जानना, (८) यथालाप में संतुष्टि तथा (९) छलरहित सरल स्वभाव से हृदय में प्रभु का विश्वास।

इनमें से किसी एक प्रकार की भक्तिवाला मुझे प्रिय होता है, फिर तुझमें तो सभी प्रकार की भक्ति दृढ है । अतएव जो गति रोगियों को भी दुर्लभ है, वह आज तेरे लिये खुलभ हो गयी है। उसीके फलस्वरूप तुम्हें मेरे दर्शन हुए, जिससे तुम साज स्वरूप को प्राप्त करोगी । इस प्रकार भक्ति का वर्णन करने के बाद भगवान् शबरी को अपना परम पद प्रदान करते हैं ।

उसी समय दण्डकारण्य वासी अनेक ऋषि मुनि शबरीजी के आश्रममें आ गये । मर्यादापुरुषोत्तम भगवान् श्रीराम और लक्ष्मणने खड़े होकर मुनियों का स्वागत किया और उनसे कुशल प्रश्न किया । सबने उत्तरमे यही कहा हे रघुश्रेष्ठ आपके दर्शन से हम सब निर्भय हो गये हैं । हे प्रभो ! हम बड़े अपराधी हैं । इस परम भक्तिमती शबरीके कारण हमने मतंग जैसे महानुभावका तिरस्कार किया । योगिराजो के लिये भी जो परम दुर्लभ हैं ऐसे आप साक्षात् नारायण जिसके घरपर पधारे हैं वह भक्तिमती शबरी सर्वथा धन्य है । हमने बडी भूल की । इस प्रकार सब ऋषि मुनि पश्चात्ताप करते हुए भगावान् से विनय करने लगे । आज दण्डकारण्यवासी ज्ञानाभिमानियो की आंखे खुली ।

जब व्रजक्री ब्राह्मण वनिताओ ने अपने पतिदेवों की आज्ञाका उल्लंघन कर साक्षात् यज्ञपुरुष श्रीकृष्ण की सेवामें पहुंचकर अनन्य भक्तिका परिचय दिया था, तब ब्राह्मणोंने एक बार तो वहुत बुरा माना परंतु अन्तमें जब उन्हें बोध हुआ, तब उन्होंने भी बड़े पश्चाताप के साथ इसी प्रसार अपनेको धिक्कार देते हुए कहा था

हमारी तीन जन्मों को (एक गर्भ से, दूसरे उपनयन से और तीसरे यज्ञदीक्षासे) विद्याको, ब्रह्मचर्यव्रत को, बहुत जानने को, उत्तम कुल को, यज्ञादि क्रियाओं में चतुर होने को बार बार धिवकार है क्योंकि इम श्रीहरिके विमुख हैं ।(श्रीमद्भागवद् १० । २३ । ३९ -४०)

ऋषि मुनियों को पश्चात्ताप करते देखकर श्री लक्ष्मणजी ने उनसे कहा महर्षिगण ! आपलोग धन्य है । आप बड़े ही तपव्रतपरायण हैं ।आप सांसारिक विषयज़न्य सुखों को त्यागकर निस्पृह होकर वनमें निवास करते हैं । आपलोगो के प्रभाव से यह चराचर जगत् धर्म को धारण कर रहा है । इस प्रकारके वाक्यो से ऋषियों को कुछ संतोष हुआ, इतनेमे एक ऋषिने कहा- हे शरणागतवत्सल ! यहांके सुंदर सरोवरके जलमें कीड़े क्यों पड़ रहे हैं तथा वह रुधिर(रक्त) सा क्यों हो गया है ?  लक्ष्मणजीने हँसते हुए कहा

मतंग मुनि के साथ द्वेष करने तथा शबरी जैसी रामभक्ता साध्वी का अपमान करनेके कारण आपके अभिमानरूपी दुर्गुण से ही यह सरोवर इस दशको प्राप्त हो गया है । इसके फिर पूर्ववत् होनेका एक यही उपाय है कि शबरी एक बार फिरसे उसका स्पर्श करे । भगवान् की आज्ञासे शबरी ने जलाशय में प्रवेश किया और तुरंत ही जल पूर्ववत् निर्मल हो गया । यह है भक्तों की महिमा !

श्री राम ने शबरी को जानकी के विषय में पूछा, तब शबरी ने उन्हें पम्पासरोवर जाने को कहा ।उसने प्रभु से कहा की वह आपकी मित्रता सुग्रीव से होगी। वे सब हाल बताएँगे।
फिर शबरी ने प्रभु से कहा – हे धीरबुद्धि !आप अन्तर्यामी होते हुए भी ये सब मुझसे पूछते है? भगवान् ने प्रसन्न होकर फिर शबरी से कहा कि तू कुछ वर माँग । शबरी ने कहां मैं अत्यन्त नीच कुल में जन्म लेेनेपर भी आपका साक्षात् दर्शन कर रही हूँ यह क्या साधारण अनुग्रह का फल है? तथापि में यही चाहती हूँ कि आपमें मेरी दृढ़ भक्ति सदा बनी रहे । भगवान ने हँसते हुए कहा तथास्तु !

फिर कहने लगी जिनका यह आश्रम है,जिनके चरणों की मैं सदा दासी रही,उन्ही पवित्र आत्मा महर्षि के समीप अब मुझे जाना है। शबरी ने पार्थिव देह परित्याग करने के लिये भगवान् की आज्ञा चाही, भगवान ने उसे आज्ञा दे दी । ह्रदय में श्रीराम चरणों को धारण करके शबरी मुनिजनो के सामने ही देह छोडकर परम धाम को प्रयाण कर गयी और सब तरफ जयजयकार की ध्वनि होने लगी ।

समस्त हरी हर भक्तों की जय।
भक्तवत्सल भगवान की जय।।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s