सुंदर कथा ६१ (श्री भक्तमाल – श्री केशव दण्डौती जी) Sri Bhaktamal – Keshav Dandauti ji

व्रजमण्डल के भक्तजनो मे श्रीकेशव जी दण्डौती का नाम अग्रगण्य है । यह हमेशा श्रीगोवर्घन जी की दण्डवती परिक्रमा करते रहते थे, अत: इनकेे नाम के साथ दण्डवती की छाप लग गयी थी । एक बार श्री केशव जी कीर्तन करते हुए श्रीगोवर्धन जी की दण्डवती परिक्रमा लगा रहे थे । रात्रि हो गयी थी , उसी समय श्री कृष्ण एक हट्टे -कट्टे साधु के रूप मे आकर इनसे बोले- मैं भी आपके साथ कीर्तन करते  हुए परिक्रमा करूँगा । श्री केशव जी ने स्वीकृति दे दी । परंतु जब ये दण्डवत् करने लगे तो साधुरूपधारी भगवान् ने इन्हें आगे सरका दिया । 

यह देखकर श्री केशव जी नाराज हुए और बोले -तू कौन है ?कहाँ से आया है ? तू मेरी परिक्रमा खण्डित कर रहा है । तेरी बुद्धि मे अधर्म समाया हुआ है । साधुरूपघारी भगवान् बोले- अधर्म तो आप स्वयं करते है और उलटे दोष मुझें लगाते हैं ? अरे ! आप को मालूम है कि पृथ्वी को भूधर ( विष्णु) की पत्नी कहते है और आप रात्रि के समय परस्त्री का आलिंगन करते हैं, यह कितना बडा अधर्म है ?  श्री केशव जी ने कहा -पृथ्वी हमारी माता है । अत: उनकी गोद में विचरने से हमे कोई दोष नहीं है ।  यह मुंह तोड़ उत्तर सुनकर साघुरूपधारी भगवान् मुस्कराने लगे और प्रसन्न होकर उन्होंने निजस्वरूप का दर्शन कराया ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s