आंवले के चमत्कारी गुण (Benefits of Amla- Indian Gooseberry)

image

आंवला में फल और औषधि दोनों के गुण उपस्थित होते हैं।आयुर्वेद ने इसे ‘अमृतफल’ कहा है। आयुर्वेंद में इसका बहुत ही महत्व है। खाने में आंवला कड़वा, मधुर, एवं शीतल है।

यह अपने कड़वेपन के कारण कफ एवं गैस को खत्म करता है और मधुरता व शीतलता के कारण पित्तनाशक है अत: यह त्रिदोषनाशक है।

* आंवले के अन्दर विटामिन `सी´ भरपूर मात्रा में
पायी जाता है। इसकी खास बात यह है कि इसके विटामिन गर्म करने और सुखाने से भी खत्म नहीं होते।
* आंवला युवको को जवान बनाए रखता है और बूढ़ों को युवाशक्ति प्रदान करता है। इसी का प्रयोग करके `च्वयन´ ऋषि ने दुबारा अपने यौवन को प्राप्त किया था।
*आंवले में जितने रोग से लड़ने की शक्ति, खून को साफ और बल-वीर्य बढ़ाने वाले तत्व हैं उतने संसार की किसी वस्तु या औषधि में नहीं हैं। इसलिए स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए
अपने भोजन में आवले को मुख्य रूप से शामिल करें।
* आंवला हमारे दांतों और मसूढ़ों को स्वस्थ और मजबूत बनाता है एवं तन-मन को फुर्तीला बनाता है।
*नर्वस सिस्टम (स्नायु रोग), हृदय की बेचैनी, धड़कन, मोटापा, जिगर,ब्लडप्रेशर, दाद, प्रदर, गर्भाशय दुर्बलता, नपुसंकता, चर्म रोग, मूत्ररोग एवं हडिड्यों आदि के रोगों में आंवला बहुत उपयोगी होता है।
* जिगर की दुर्बलता, पीलिया को खत्म करने में
आंवला को शहद के साथ मिलाकर खाने से लाभ मिलता है और यह टॉनिक का काम करता है।
* आंवला को रस के रूप में, चटनी के रूप में या इसके चूर्ण को पानी के साथ ले सकते हैं।
* कोलेस्ट्रॉल- रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच आंवले का पावडर पानी में घोलकर पी लें। इससे रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर स्थिर रहता है।

*नेत्र रोग – प्रतिदिन एक बड़ा चम्मच आँवले का रस शहद के साथ मिलाकर चाटने से मोतियाबिन्द में लाभ होता है।आंवले का रस पीने से नेत्र ज्योति बढ़ती है।
* आँवला, जामुन और करेले का पावडर एक चम्मच प्रतिदिन दोनों समय लें। इससे मधुमेह को निंयत्रित करने में मदद मिलेगी।
*एसिडिटी- तीव्र या असाध्य एसिडिटी हो तो एक ग्राम आँवले का पावडर दूध या पानी में शक्कर के साथ मिलाकर दोनों समय पिएँ।
* आंवला अर्थराइटिस के दर्द को कम करने में
भी सहायक होता है।
* आंवला बालों को मजबूत बनाता है,इनकी जड़ों को मजबूत करता है और बालों का झडऩा भी काफी हद तक रोकता है।
* गर्भवती स्त्रियों को आंवला अवश्य लेना चाहिये, किसी भी रूप में लें।
* आंवला एक अंण्डे से अधिक बल देता है।
गर्भावस्था में उल्टी हो रही हो, तो आंवले
का मुरब्बा खायें।
* आंवले के चूर्ण का उबटन चेहरे पर लगाये चेहरा साफ होगा दाग धब्बे दूर होंगे।
* गर्मियों में चक्कर आता हो जी घबराता हो तो आंवले का शर्बत पियें।
* फेफड़े की सूजन, दमा व तपैदिक (क्षय रोग) में भी यह लाभदायक है।
*त्वचा रोगों,दाद-खुजली और हथेली व तलवों में अधिक पसीना आने में भी यह लाभकारी है।

Misdiagnosed diseases , Neck , Shoulder back pains , B12 deficiency ,Weakness ,MS and fibromyalgia – A fraud by Doctors and pharma companies.

Narrated by a Spiritual master and yogi from himalayas . Some Extra references from Dr JV hebbars book and Maharshi ayurveda.

Do you think you have MS or fibromyalgia or B12 or Calcium deficiency or any other stupid disease named by doctors? Just read this article now. People often complaint that they have Pain in neck, shoulder blades or back and legs, they have stiffness of muscles, they have weakness, they cant walk straight, they have unsteady gait, their eyesight got low at the same time when these symptoms started, they have numbness and tingling, they are too much stressed. The MRI and CT scan shows nothing. Then what is the root. Cause. Doctors often make you scared by uttering names such as surgery, costly injections, MS , fibromyalgia , Nerve damage etc. (I am not talking about accident cases or damaged discs). Ayurveda

The root cause of all these diseases is AMA – Ama is a Sanskrit word that means – unripe,i mmature or undigested. This ama is a sticky substance that is easy to eliminate from the digestive system but if it spreads into the deeper tissues, it becomes hard to eliminate it. Depending on where ama is in the body, it can cause some signs and symptoms such as a thick coating on the tongue, numbness , tingling, slow blood flow ,any kind of congestion, weakness, dark circles, fever, obesity, stiffness . In blood and digestive tract IBS, Constipation, gas, vitamins and mineral deficiencies. If you digestive fire or agni is strong you dont get diseased -Remember that. Everything you eat if totally absorbed in the body then you wont need any B12 and B6 and calcium pills.

These diseases come under vata diseases. Vata means dryness and gas. In old medicinal text charak samhita there are 80 kind of vata diseases.
I. Nakhabheda (cracking of nails)
2. Vipadika (cracking of feet)
3. Padasula (pain in feet)
4. Padabhramsha (foot drop)
5. Padasoptata (numbness in feet)
6. Vatakhuddata (club foot)
7. Gulphagraha (stiff ankle)
8. Pendikodveshtana (cramps )
9. Gridhrasi (sciatica)
10. J anubheda (genu varoon)
II. Januvishlesha (genu valgum)
12. Urustambha (stiffness in thigh)
13. Urusada (pain in thighs)
14. Pangulya (paraplegia)
15. Gudabhramsha (prolapse rectum)
16. Gudarthi (teanmus)
17. Vrishanakshepa (pain in serotim)
18. Shephastambha (stiffness of thigh)
19. Vanikshananaha (tension of grion)
20. Shronibheda (pain around pelvic girdle)
21. Vibheda (diarrohea)
22. Udavarta (mispersitalsis)
23. Khanjata (lameness)
24. Kubjatva (kyphosis)
25. Vamanatva (dwarfism)
26. Trikagraha (arthiritis of sacroillac joint)
27. Prishta graha (stiffness of back)
28. Parshvavamarda (pain in chest)
29. Udaraveshta (griping pain in abdomen)
. 30 . Hrinmoha (brady cardia)
31. Hideaway (tachycardia)
32. Vaksha uddharasha (rubbing pain in the
chest)
33. Vaksha uparobdha (impairment of thorasic
movement)
34. Bahushosha (attrophy of ilrm)
35. Vaksha sthoda (stabbing pain in chest)
36. Grivasthamba (stiffness of neck)
37. Manyasthamba (torticollis)
38. Kan thoddvamsa (hoarseness of voice)
39. Hanubheda (pain in jaws)
40. Osthabheda (pain in lip)
41. Dantha bheda (toothache)
42. Akshi bheda (pain in eye)
43. Danthasaithilya (looseness of teeth)
44. Mukatva (aphasia)
45. Vaksanga (lulling speech)
46. Kasayasata (astrinent taste in mouth)
47. Mukha shosha (dryness of mouth)
48. Arasajnata (ageusia)
49. Ghrananasha (anosmia)
50. Karnashula (ear ache)
5l. Ashabdasravana (tenitus)
52. Ucchaihsruti (hard of hearing)
53. Badhirya (deafness)
54. Vartmastambha (ptosis of eye lid)
55. Vartmasamkoca (entropion)
56. Timira (amausosis)
57. Akshishula (pinching pain in eye)
58. Akshivyudasa (ptosis of eye ball)
59. Bhruvyudasa (ptosis of eye brow)
60. Shankabheda (pain in temporal region)
61. Lalatbheda (pain in frontal region)
62. Shiroruk (headache)
63. Keshabhumisputana (dandrufO
64. Ardita (facial paralysis)
65. Ekangaroga (monoplegia)
66. Sarvanga roga (poly plegia)
67. Pakshavadha (hemiplegia)
68. Akshepaka (clonic convulsion)
69. Dandaka (tonic convulsion)
70. Tama (fainting)
71. Bhrama (giddiness)
72. Vepatu (tremour)
73. Jrimbha (yawning)
74. Hikka (hiccuup)
75. Vishada (asthenia)
76. Atripralapa (deliricion)
77. Raukshya (dryness)
78. Parusya (hardness)
79. Shyavarunavadhadhasata (dusky red
appearances)
80. Asvapna (sleeplessness)
Anavatsthitachittatva (unstable mentality)

According to maharshi jee -What is the function of vata ? It governs all movement in the mind and body. It controls blood flow, elimination of wastes, breathing and the movement of thoughts across the mind. Since Pitta and Kapha cannot move without it, Vata is considered the leader of the three Ayurvedic Principles in the body.

See The quality of vata is cold and dry. It dries up the faeces and leads to constipation , it leads to dryness of joints. Oil is best for vata diseases. Sesame oil or mustard oil, ayurvedic oils like Mahanarayan oil, gandha thailam(oil), Maha vishgarbha oil etc. Keep oiling. If you dip a thread in the oil for long, it would become so strong that you cannot easily break it. So the bomes become strong with oil.

Causes of vata diseases . I have taken a short list from Dr jv hebbars book as the spiritual yogi told us these things in short. You can refer his site easy ayurveda for more detailed list of causes and guidance.

  • Ruksha Aahaara – Dry foods
  • Sheeta Aahaara – cold foods

• Alpa anna – less quantity of food

  • Laghu anna – foods which are light to digest
  • Ati vyavaaya – excessive indulgence in sexual activities
  • Ati prajaagaraihi – excessive awakening during night times
  • Vishama Upachaara – Improper administration of treatments mainly cleansing treatments like Vamana (therapeutic emesis), Virechana (therapeutic purgation) etc
  • Ati dosha sravana – excessive elimination / discharge / elimination of doshas
  • Ati asruk sravana – excessive bleeding
  • Langana – excessive running
  • Plavana – excessive jumping
  • Ati adhwa – excessive walking
  • Ati Vyayama – Excessive exercises
  • Dhatu Kshaya – Depletion of tissues
  • Chinta – excessive thinking, stress
  • Shoka – excessive grief
  • Ati roga karshanaat – debility due to chroming and longstanding diseases
  • Vega sandhaarana – forcible withholding of natural urges
  • Aama – undigested food in circulation
  • Abhighaata – accident, trauma
  • Abhojana / Apatarpana – Deficit intake of food, fasting in excess
  • Marma abaadha – injury to Marmas or vital points in the body
  • Gaja, Ashwa, Ushtra sheegra yaana – riding on elephants, horses and camels regularly and in quick pace
  • Prapatanaat – falling down from the animals (while riding them)

Other causes

  • Bhanga – Fractures
  • Ati shuchi – Excessive administration of cleansing procedures (Panchakarma)
  • Shaityadi – Excessive consumption of cold foods and activities
  • Traasaat – Fear
  • Kshobha – Irritation
  • Kashaya – Excessive consumption of astringent foods
  • Tikta – Excessive consumption of bitter foods
  • Katu – Excessive consumption of pungent foods
  • Vari-ghanagame – cloudy and rainy season
  • Parinate anne – After the digestion of food
  • Aparahne – Evening

Specific causes:

  • Vyayama – Excessive exercises
  • Apatarpana – Fasting in excess
  • Prapatana – Fall, injury
  • Bhanga – Fractures
  • Kshaya – Depletion of tissues
  • Jaagarat – Excessive vigil (awakening all night)
  • Veganam cha vidharanat – Suppression of natural body urges (reflexes)
  • Ati shuchi – Excessive administration of cleansing procedures (Panchakarma)
  • Shaityadi – Excessive consumption of cold foods and activities
  • Traasaat – Fear
  • Ruksha – Excessive consumption of dry foods
  • Kshobha – Irritation
  • Kashaya – Excessive consumption of astringent foods
  • Tikta – Excessive consumption of bitter foods
  • Katu – Excessive consumption of pungent foods
  • Vari-ghanagame – cloudy and rainy season
  • Parinate anne – After the digestion of food
  • Aparahne – Evening

Blockage of the flow of the channel, when Ama or toxins or the excess doshas block the channels by accumulation. This can cause pain in body. The best recommended ,cheap and safe medicine for all types of vata diseases is YOGRAJ GUGGUL. There are more midicines like spondylon, balarishta, Pirant by maharshi ayurveda etc etc.

The medicine hardly costs 4 or 5 dollars for 1 month and is herbal very old indian medicine. You can buy it from any online shopping site. The name is Yograj guggul. If you feel you have more symptoms of this then use medicine maha yograj guggul . Take this for 4 5 months if problem is old. It will flush out all sticky toxins blocking your channels. You wont feel weakness and tingling. Do not take pain killers and allopathy medicines. It will worsen symptoms. These diseases come when astrologically you have saturn and rahu operational periods in the chart. Please do not fear , these are very stupid diseases which are complicated by doctors as disc prob, MS, fibro, blah blah…

Please note that all the above diseases are caused by eating cold foods, ice creams, coffee, tea, breads, pizza, cheese, sour things, cakes , cold water, late night sleeps, over indulgence in sexual activity, using dark blue and black clothes often, smoking, travelling and roaming much.Go for walk on bare foot, take wheatgrass, the root cause of these diseases are AMA , undigested sticky food in the channnels.

You get enough vitamins and minerals from dates , beet, carrots, vegetables, cereals, pulses, grains, yoghurt, wheatgrass, indian cow milk has almost every mineral and vitamin, honey, Indian ginseng ashwagandha has all most all minerals, indian herb giloy , ghee, Herbal medicine chandra prabhavati alone can cure all mineral and vitamin deficiency.

Details of vata diseases and treatment by respeced Dr Janadran hebbar jee

Details on treatment of vata diseases by respected Dr Jagdev singh jee

HAR MAUSAM AAM(PRESERVED MANGO DRIKS =DANGER)

AAMआजकल टीवी पर रसना-वासना और झूठ से परिपूर्ण विज्ञापनों द्वारा गर्मियों में आम खाने की बजाये माज़ा , फ्रूटी और स्लाइस पीने का प्रचार किया जा रहा है lयह जान लीजिये की यह 100% मूर्खतपूर्ण और प्रकृति के विरुद्ध कार्य है l
प्रकृति ने अलग-अलग ऋतुओं की विक्षमताओं और परेशानियों से निपटने के लिए हर ऋतु के लिए अलग-अलग फल-सब्जियां अनाज और जड़ी-बूटियाँ आदि बनायीं हैं जो हर व्यक्ति को उस ऋतु में आने वाली परेशानियों को झेलने की शक्ति देती हैं l

आम एक दिव्य फल है जो केवल गर्मियों के लिए बना है l आयुर्वेद के अनुसार ग्रीष्म ऋतु में सूर्य की तीष्ण किरणों के कारण शरीर में धातुओं की कमी हो जाती है, जिसकी पूर्ती हेतु प्रकृति ने हमें आम जैसा दिव्य फल दिया है l

पका आम खाने से सातों धातुओं की पुष्टि होती है, आम पतले दुबले बच्चों , वृद्धों व कृश लोगों को पुष्ट बनाने हेतु सर्वोत्तम है l

पका आम खाने से बुद्धि और शक्ति दोनों में बढ़ोतरी होती है l

आम वीर्यवृद्धि और शुद्धि करता है जिस कारण जिन्हें संतानोपत्ति न होती हो उनके लिए अति लाभकारी है l

आम आलस्य,अल्पमूत्र्ता, क्षयरोग में विशेष लाभकारी है l

यदि इतने गुण होने के बावजूद भी आप आम की जगह हानिकारक चीनी, सिंथेटिक फ्लेवरिंग,कलर और रसायनों युक्त पेय पीते हैं केवल इसीलिए क्योंकि उसका विज्ञापन किसी फिल्मस्टार ने किया है तो आप से ज्यादा दुर्भाग्यशाली भला कौन हो सकता है ?

इसलिए गर्मियों में रज कर आम खाएं और भ्रामक विज्ञापनों के जाल से अपने प्रियजनों को सचेत करें , केवल एक सावधानी के साथ की दूध के साथ केवल मीठे आम का ही सेवन करें, खट्टे आम का मेंगोशेक कभी ना बनाएं क्योंकि उनके गुण एक दुसरे के विपरीत हो जाते हैं l

क्या आप जानते हैं कोक- पेप्सी में क्या है

ILLNESS
क्या आप जानते हैं कोक- पेप्सी में क्या है ??? 1. सोडियम मोनो ग्लूटामेट – ये कैंसर करने वाला रसायन है। 2. पोटैसियम सोरबेट – ये भी कैंसर करने वाला है। 3. ब्रोमिनेटेड वेजिटेबल ऑइल (BVO) – ये भी कैंसर करता है। 4. मिथाइल बेन्जीन – ये किडनी को ख़राब करता है। 5. सोडियम बेन्जोईट – ये मूत्रनली, लीवर का कैंसर करता है। 6. एंडोसल्फान(Endosulfan) – ये कीड़े मारने के लिए खेतों में डाला जाता है। 7. चीनी के स्थान पर Aspartame का प्रयोग होता है जिससे मूत्रनली का कैंसर होता है। 8. कार्बन डाईऑक्साइड – जो कि बहुत जहरीली गैस है और जिसको कभी भी शरीर के अन्दर नहीं ले जाना चाहिए और इसीलिए इन कोल्ड ड्रिंक्स को “कार्बोनेटेड वाटर” कहा जाता है। इन्ही जहरों से भरे पेय का प्रचार भारत के क्रिकेटर और अभिनेता/अभिनेत्री करते हैं पैसे के लालच में, उन्हें देश और देशवाशियों से प्यार होता तो ऐसा कभी नहीं करते।

कुछ विदेशी कंपनियां जो पेय उत्पादों व् फास्ट फ़ूड का निर्माण
कर रही जो भारत में पानी की कमी का मुक्य कारन
बनती जा रही है ये सभी कंपनियां विश्व भर में 576 बिलियन
लीटर पानी का दोहन कर रही है ये इतना पानी है की इससे पुरे
विशव की प्यास बुजाई जा सकती है .
देखिये कैसे
1. कोका कला की 1 लीटर बोतल को बनाने में 9 लीटर शुद्ध
जल की आवश्यकता पड़ती है
2. नेस्ले को एक उत्पाद बनाने में 4 लीटर
पानी की आवश्यकता पड़ती है
3. ऐसी बीसियों विदेशी कंपनिया है भारत में
जो आदमी को तो बीमार कर ही रही है जबकी हमारे पानी जैसे
रास्ट्रीय धरोहर को भी खत्म कर रही है. जिस देश में महिलाये 2
से 3 किलोमीटर चल कर पानी लाती हो उस देश में
ऐसी कंपनियों के क्या आवश्यकता है
4.जिन इलाको में इन कंपनियां के प्लांट है. वहां भूजल स्तर में
अत्यादीक कमी आई है तथा गरीब किसानो को खेती करने
का पानी नहीं मिल रहा है और किसानो को सुखा झेलने के लिए
मजबूर किया जा रहा है
धयान रहे . ये सभी कंपनियां गेर जरूरी फास्ट फ़ूड और पेय
उत्पाद बना रही है जिनको खाना हम आसानी से से छोड़ सकते हैं
70% किसानो के लिए हम इतना तो कर ही सकते
हैं .क्या पता आज किसानो को पानी नहीं मिल रहा है कल शायद
आपकी बारी हो !”
जिस देश में 65 करोड़ लोगों को पीने को पानी नही मिलता और
कोका कोला- पेप्सी जैसे जहर 60 रूपये लिटर बिकता है।
इसे आप क्या कहेगें सरकार
की विफलता या विदेशी कंपनी की सफलता ??
यही तो वो चाहते हैं हम भारतवासी और बाकी विकासशील देश
भिखारी बनें, भूखे -प्यासे मरें और वो मज़े से भोग -विलास मे डूबे
रहें कोई उनके आराम में खलल ना दे !
वो हमें जहर बेचें 60 रु लीo और मुनाफा कमा के ले जाएँ और हम
बाद में उनसे (वर्ल्ड बैंक) भीख मांगें हमें पैसे दे दो सड़क
बनानी है !

अण्डा और मांसाहार हानिकारक है (Eggs and Meat are dangerous)

Eggs are bad for health

Do you know that eggs have little amount of nutritional value? They are totally deficient in
carbohydrates. The eggs are full of poisonous and harmful elements. Egg is the cause of several serious diseases; the high cholesterol content increases the risk of heart disease. The hens eat sputum, phlegm, nose secretions, worms, germs and other such filthy things. The eggs are produced from these things. Can egg increase the mental and intellectual quality of a person?

The following facts prove that egg is very low, dirty and the biggest enemy of health when compared to other food products. Eggs have lowest amount of nutritional elements:
1. Protein : Dals 22-25%; Eggs 13.3%; Paneer 24.1%; Separata Milk powder 38%; Soybean 43.2%

2. Carbohydrates : Dals 56 – 60%; Eggs 0%;Soybean 22.9%; Paneer 6.3%; Separata milk Powder 15%

3. Calorie : Dals 334-353; Eggs 173; Lobhia 327;Paneer 348; Milk powder 357

4. Calcium : Dals 0.13-0.20%; Eggs 0.06%;Soybean 0.24%; Paneer 0.79%;separata milk Powder 1.37%

5. Iron : Dals 8.4-9.8%; Eggs 2.1%; Soybean 11.5%;Roasted gram 8.9%

6. Phosphorous : Dals 0.25-0.37%; Eggs 0.22%;Roasted peanuts 0.44%; Paneer 0.52%; Separata
milk powder 1.4%

7. Mineral salts : Dals 2.1-3.6%; Eggs 1.0%;Soybean 4.6%; Roasted peanuts2.3%; Paneer 4.2%;
Separata milk powder 6.8%

Eggs contain high amounts of cholesterol, which causes high blood pressure and kidney problems.
Frying an egg increases its cholesterol level further.
Heart specialist Dr. col. K.L.Chopda and Dr.K.K.Agarwal says that the yoke of egg contains 220
mg cholesterol, which is dangerous for the heart.
Nobel prize winner Dr. Brown and Dr.Goldstin have proved that eggs contain high amount of cholesterol and hence increase the risk of heart attack.

DDT poison:
30 per cent of the eggs contain DDT poison. This causes cancer, this was discovered by Lorida,
America’s agricultural department.

Evidin:
The egg white contains Evidin, which causes eczema and paralysis.

Acid:
The eggs contain nitrogen and phosphoric acid,which produces acidic substances in the body,
which makes the person diseased.

Infectious bacteria:
The upper layer of the egg contains 15000 micro
holes. The infectious bacteria entering the egg through these pores – salmonella, shigola and
Staphylococci. these bacteria are responsible for disease of the intestines, due to which thousands
of Indians die every year. Several thousands of people in England became the victims of a
poisonous epidemic only because of salmonella bacteria.

Egg generates kapha(cough):
According to a German professor Egtur Burg, Egg is responsible for generating 51.83 per cent of
phlegm, which imbalance the nutrition’s in the body and become the abode of dieses.

Eggs are not easily digestible:
Bile and pancreatic juices of egg are ineffective on egg white. Therefore 30 to 50 per cent of egg is excreted without being digested. This is the view of Professor Akoda of England.

Decay of food in the stomach:
According to Dr. E.V. Mekkalam the eggs do not contain carbohydrates and the amount of calcium is also very low, hence it decays in the stomach.

Eggs contain very less amount of vitamins: eggs contain very little quantity of iron, magnesium and
vitamins. Especially vitamin B complex and vitamin C.

Egg causes diseases in any form:
Prof of microbiology in the university college of medicine, Dr. V.Talwad says that egg causes
different types of disease whether eaten raw or in any other form.
Hens have lot of diseases:
The hens are carriers of bacteria and germs responsible for diseases like T.B and infect the
persons eating it. (Dr. Robert Grass)

Hens are subjected to torture:
The following methods of tortures are applied on hens in order to get more and faster production of eggs:
– The hens are given injections of special hormones for egg formulation.
– The male chickens are made to sit under the hot Sun and are not allowed to sleep to make them young quickly.
– More hens are fitted in to the farms, where they cannot flap their wings, they bite one another and get injured.
– The hens are forced to sit in the sheds throughout the day.
– The wings and beaks are chopped off with the help of hot metallic instruments and machines.This hard truth was mentioned in the world-renowned book, height for a new America, written by John Robins.
– Is it not foolishness to eat eggs containing 13 per cent protein and sacrificing vegetable food items containing 22 to 43-pr cent protein?
– Is it not stupidity to eat eggs, which are responsible for generating serious diseases instead of nutritious and healthy vegetarian food.
– Is it good to eat eggs 173 calories or vegetarian food containing 327 to 432 calories?
– Are we not encouraging violence and cruelty by eating the poor creatures that are subjected to different kinds of cruelty?

Inspirational factors for quitting eggs:Eating eggs and meat is against the Vedas

Another Reason to be vegetarian

1.हृदय रोग व उच्च रक्त चाप- इस रोग का मुख्य कारण है रक्त वाहिनियों की भीतरी दीवार पर कोकेस्ट्रोल का जमना। मांस और अण्डे में कोलेस्ट्रोल बहुत अधिक होता है। 100 ग्राम अण्डे में आवश्यकता से ढाई गुणा अधिक कोलेस्ट्रोल होता है।

2. आंतों का अल्सर, अपैंडिसाइटिस, आंतों और मलद्वार का कैंसर- यह रोग मांसाहारियों में शाकाहारियों की अपेक्षा कई गुणा अधिक होता है।

3. गुर्दे की बीमारियाँ- अधिक प्रोटीनयुक्त भोजन गुर्दे को खराब करता है। मांसाहारी आवश्यकता से अधिक प्रोटीन खा लेता है। शाकाहार में अधिक प्रोटीन नहीं लिया जा सकता क्योंकि यह फैलावदार होने से कम खाया जाता है।

4. सन्धिवार, गठिया आदि- मांसाहार खून में युरिक एसिड की मात्रा बढाता है, जोडों पर युरिक एसिड का जमाव होने से ये रोग होते हैं ।

5. कैंसर- यह रोग मांसाहारियों में अधिक पाया जाता है।

6. आँतों का सडना- अण्डा, मांस आदि खाने से आमाशय कमजोर होता है और आंते सड जाती हैं।

7. विषावरोधी शक्ति का क्षय- अण्डा, मांस खाने वाले से विषावरोधी शक्ति नष्ट हो जाती है, जिससे मनुष्य साधारण सी बीमारी का सामना नहीं कर पाता।

8. त्वचा रोग- त्वचा की रक्षा के लिये आवश्यक विटामिन गाजर, टमाटर तथा हरी सब्जियों में अधिक होता है। अतः शाकाहार ही त्वचा की रक्षा करता है। मांसाहार में विटामिन A की मात्रा न होने के कारन वह त्वचा में अनेक रोग उत्पन्न कर देता है।

9. माइग्रेन इंफेक्शन आदि के कारण होने वाले रोग- ये रोग मांसाहारियों में अधिक पाये जाते हैं। मांसाहार से होने वाले रोगों के अनेक कारण हैं: हत्या से पूर्व पशु, पक्षियों आदि के स्वास्थ्य की पूरी जाँच नहीं की जाती, जिससे उनके शरीर में छुपी हुई बीमारियों का पता नहीं लगता। ऐसे रोगग्रस्त पशुओं का मांस खाने से उनके अन्दर छुपे हुए रोग खाने वालों को भी हो जाते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार वेनवग नाम का ऐसा कीडा होता है कि उसके काटने से पशु पागल हो जाता है। किंतु पागलपन
का यह रोग विकसित होने में और प्रकट होने में 10 वर्ष लगते हैं। इस मध्य कोई भी व्यक्ति इस कीडे द्वारा काटे हुए पशु के मांस को खा लेता है, तो पागल हो जाता है।

हत्या से पूर्व पशु अपनी रक्षा के लिये प्रयास करता है, फडफडाता है, निस्सहाय होने के कारण उसका डर और आवेश बढ जाता है, क्रोध से आँखें लाल हो जाती हैं, मुँह में झाग आ जाते हैं. ऐसी अवस्था में उसके अन्दर एडरीनालिन नामक जहरीला पदार्थ उत्पन्न हो जाता है। जब मनुष्य अनजाने में उस पशु का मांस खाता है तब यह जहरीला पदार्थ उसके अन्दर प्रवेश कर उसे अनेक घातक बीमारियों का शिकार बना लेता है। खून और बैक्टीरिया का इंफैक्शन अतिशीघ्र हो जाता है। अतः पशु के मरते ही मांस सडने लगता है और यह सडा हुआ मांस जब खाने वाले के शरीर में पहुँचता है तो वह असाध्य रोगों का शिकार अन जाता है।

प्रयोगों से ज्ञात हुआ है कि अण्डे यदि 50डिग्री से अधिक तापमान पर 12 घण्टे से अधिक समय तक रहें, उनके अन्दर
सडने की प्रक्रिया शुरु हो जाती है। ऐसी स्थिति में भारत जैसे देश में जहाँ तापमान सदैव इससे अधिक रहता है और अण्डों को पोल्ट्री फॉर्म से तैयार हो कर बिक्री होने तक प्रायः 24 घण्टे का समय लग जाता है, अब उसमें सडने की प्रक्रिया प्रारम्भ हो जाती है। जब अण्डे सडने लगते हैं, तब उनका जलीय भाग पहले कवच में से भाप बनकर उडने लगता है, फिर रोगाणुओं का आक्रमण शुरु होता है, जो कवच में पहुँचकर उसे पूरी तरह सडा देता है।

 सूक्ष्म स्तर पर सडे हुए अण्डे पहचाने न जाकर काम में के लिये जाते है, जिससे उधर विकार, फूड पॉयजनिंग आदि रोग हो जाते हैं। ऑस्ट्रेलिया जहाँ सर्वाधिक मांस खाया जाता है और जहाँ प्रतिवर्ष प्रतिव्यक्ति 130 किलो गोमांस की खपत है, वहाँ आंतों का कैंसर सबसे अधिक है। Dr. Andrew Gold ने अपनी पुस्तक Diabities Its Cause Ant Treatment में शाकाहारी भोजन की सलाह दी है।

So Much Violence is produced by the killing of animals, where do you think the reactions to this violence goes? It comes back to us in so many ways, such as the form of neighborhood and community crime, and on up to world wars. Violence breeds violence. 

Therefore, every several years there is a big war in various areas of the world which causes wholesale slaughter of
people. This is the reaction of nature for the immense cruelty produced by humankind.

मानव को प्रकृति द्वारा शाकाहारी बनाया गया है। मानव के शाकाहारी होने के साक्ष्य :

१. मांसाहारी प्राणियों के केनाईन दांतो की बनावट मोटी चमडी में गड़ाकर शिकार को प्राणरहित करने में समर्थ है चिरफाड़ के लिए नुकीले दाँत होते हैं। ये आहार को चबा नहीं सकते उसे टुकड़े टुकडे कर निगलना पडता है।
शाकाहारी और मनुष्य- दोनों में तेज नुकीले दाँत नहीं होते जबकि इनमें मोलर दाँत होते हैं। इनके दांत आहार को चबाने में समर्थ होते है जिन दो दांतो को केनाईन कहा जाता है वे
माँसाहारी प्रणियों के केनाइन समान नहीं है।

२. मनुष्य की आँतोँ का विकास मांस पचाने के लिए नहीँ हुआ है मांसाहारी जानवर अपने जबडे
केवल ऊपर या नीचे ही हिला सकते हैं ..
जबकि शाकाहारी जानवर व मानव अपने जबड़े चार संभव दिशाओं में हिला सकते हैं… इससे पता चलता है कि हम शाकाहारी प्रवृति वाले जीवधारी हैं..

३. जानवर दो तरह के होते हैं… एक जो पानी पीने के लिए उसे चाटते हैं यानी जीभ से पानी पीते है ,जैसे कुत्ता, बिल्ली, शेर जो कि मांस खा सकते हैं..
आप बिल्ली या कुत्ते को पानी पीते देखिए वो जीभ से पानी पीते हैँ।
और दूसरे जो पानी पीने के लिए उसके घूंट लेते चूसते और निगलते हैं.. जैसे.. गाय, हिरण, घोडा आदि जो कि पूर्णतः शाकाहारी होते हैं..और हम भी दूसरी श्रेणी से सम्बंधित हैं..

४. यदि आप एक विक्षिप्त शव देखते हैं.. जिसके आस-पास बहुत सारा रक्त हो..
तो आपको वो अच्छा नहीं लगेगा,आपको घृणा आएगी और आप वहां से दूर जाना चाहेँगे… क्योंकि आप शाकाहारी हो…जबकि यह एक कुत्ते या भेडिये के लिए मुंह में पानी आने वाला दृश्य होगा… क्योँकि ये प्रवृति मांसाहारी है।

५. मांसाहारी पशुओं की आंत छोटी होती है ताकि ..मांस को जल्द से जल्द शरीर से बाहर कर सकेँ… जबकि शाकाहारी जानवरों की आंत बडी होती हैं.. यही वजह है कि जो व्यक्ति केवल
मांस खाता है उसके उत्सर्जन
अंगोँ की सांद्रता बढ़ी व उत्सर्जन उत्पाद अधिक सांद्र प्रकृति लिए होते है …क्योँकि इनकी आंते
शाकाहारी खाद्य पचाने हेतु निर्मित हुई होती है।

६. माँसाहारी- शेर , कुत्ते,विड़ाल इत्यादि तीव्र और हाँफते हुए सांस लेते है। श्वसन दर १८० से ३०० तक होती है।
शाकाहारी और मनुष्य- मनुष्य सहित गाय , बकरी ,हिरन , खरगोश, भैंसे इत्यादि सभी धीमे – धीमे से सांस लेते है। इनकी श्वसन दर ३० – ७० श्वास
प्रति मिनट तक होती है।

७. माँसाहारी-इनमें स्वेद ग्रंथियाँ/त्वचा में रोम छिद्र नहीं होते इसलिए ये प्राणी जीभ के माध्यम से शरीर का तापमान नियंत्रित करते हैं।
शाकाहारी और मनुष्य- इनके शरीर में रोम छिद्र /स्वेद ग्रंथियां उपस्थित होती हैं और ये पसीने के माध्यम से अपने शरीर का तापमान नियंत्रित रखते हैं।

कुल मिलाकर मानव शरीर शाकाहार हेतु बना हुआ है, मांसाहारी प्रोपेगेँडा विधर्मियोँ और विदेशी पढाई वाले डॉक्टरों (Allopathic Doctor’s ) द्वारा फैलाया गया है।
यदि आपको कर्म के सिद्धांत में विश्वास नहीं है तब भी मैं आपसे नैतिक आधार पर शाकाहारी होने के लिए निवेदन करुंगा…
और कृपया संवेदनशील प्राणियों के लिए दया का भाव रखें…

आप बेजुबान जानवरों पर दया नही कर सकते तो भगवान आप पर दया क्यों करेंगे.. अपने पेट को स्वाद के लिए कब्रिस्तान न बनाएं और इसका प्रसार करने में
सहायता करें।

तिलक, दिपक, कलश, स्वस्तिक, शंख के महत्व

image

तिलकः बुद्धिबल व सत्त्वबलवर्द्धक
ललाट पर दो भौहों के बीच विचारशक्ति का केन्द्र है जिसे योगी लोग आज्ञाशक्ति का केन्द्र कहते हैं। इसे शिवने अर्थात कल्याणकारी विचारों का केंद्र भी कहते हैं। वहाँ पर चन्दन का तिलक या सिंदूर आदि का तिलक विचारशक्ति को, आज्ञाशक्ति को विकसित करता है। इसलिए हिंदू धर्म में कोई भी शुभ कर्म करते समय ललाट पर तिलक किया जाता है।

ऋषियों ने भाव प्रधान, श्रद्धा-प्रधान केन्द्रों में रहने वाली महिलाओं की समझदारी बढ़ाने के उद्देश्य से तिलक की परंपरा शुरू की। अधिकांश महिलाओं का मन स्वाधिष्ठान और मणिपुर केंद्र में रहता है। इन केन्द्रों में भय, भाव और कल्पनाओं की अधिकता रहती है। इन भावनाओं तथा कल्पनाओं में महिलाएँ बह न जाएँ, उनका शिवनेत्र, विचारशक्ति का केंद्र विकसित हो इस उद्देश्य से ऋषियों ने महिलाओं के लिए सतत तिलक करने की व्यवस्था की है जिससे उनको ये लाभ मिलें। गार्गी, शाण्डिली, अनसूया तथा और भी कई महान नारियाँ इस हिन्दूधर्म में प्रकट हुईं। महान वीरों को, महान पुरूषों को महान विचारकों को तथा परमात्मा का दर्शन करवाने का सामर्थ्य रखने वाले संतों को जन्म देने वाली मातृशक्ति को आज हिन्दुस्तान के कुछ स्कूलों में तिलक करने पर टोका जाता है। इस प्रकार के जुल्म हिन्दुस्तानी कब तक सहते रहेंगे? इस प्रकार के षडयंत्रों के शिकार हिन्दुस्तानी कब तक बनते रहेंगे?

दीपक
मनुष्य के जीवन में चिह्नों और संकेतों का बहुत उपयोग है। भारतीय संस्कृति में मिट्टी के दिये में प्रज्जवलित ज्योत का बहुत महत्त्व है। दीपक हमें अज्ञान को दूर करके पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने का संदेश देता है। दीपक अंधकार दूर करता है। मिट्टी का दीया मिट्टी से बने हुए मनुष्य शरीर का प्रतीक है और उसमें रहने वाला तेल अपनी जीवनशक्ति का प्रतीक है। मनुष्य अपनी जीवनशक्ति से मेहनत करके संसार से अंधकार दूर करके ज्ञान का प्रकाश फैलाये ऐसा संदेश दीपक हमें देता है। मंदिर में आरती करते समय दीया जलाने के पीछे यही भाव रहा है कि भगवान हमारे मन से अज्ञान रूपी अंधकार दूर करके ज्ञानरूप प्रकाश फैलायें। गहरे अंधकार से प्रभु! परम प्रकाश की ओर ले चल। दीपावली के पर्व के निमित्त लक्ष्मीपूजन में अमावस्या की अन्धेरी रात में दीपक जलाने के पीछे भी यही उद्देश्य छिपा हुआ है। घर में तुलसी के क्यारे के पास भी दीपक जलाये जाते हैं। किसी भी नयें कार्य की शुरूआत भी दीपक जलाने से ही होती है। अच्छे संस्कारी पुत्र को भी कुल-दीपक कहा जाता है। अपने वेद और शास्त्र भी हमें यही शिक्षा देते हैं- हे परमात्मा! अंधकार से प्रकाश की ओर, मृत्यु से अमरता की ओर हमें ले चलो। ज्योत से ज्योत जगाओ इस आरती के पीछे भी यही भाव रहा है। यह है भारतीय
संस्कृति की गरिमा।

कलश
भारतीय संस्कृति की प्रत्येक प्रणाली और प्रतीक के पीछे कोई-ना-कोई रहस्य छिपा हुआ है,जो मनुष्य जीवन के लिए लाभदायक होता है।ऐसा ही प्रतीक है कलश। विवाह और शुभ प्रसंगों पर उत्सवों में घर में कलश अथवा घड़े वगैरह पर आम के पत्ते रखकर उसके ऊपर नारियल रखा जाता है। यह कलश
कभी खाली नहीं होता बल्कि दूध, घी, पानी अथवा अनाज से भरा हुआ होता है। पूजा में भी भरा हुआ कलश ही रखने में आता है। कलश की पूजा भी की जाती है।

कलश अपना संस्कृति का महत्त्वपूर्ण प्रतीक है। अपना शरीर भी मिट्टी के कलश अथवा घड़े के जैसा ही है। इसमें जीवन होता है। जीवन का अर्थ जल भी होता है। जिस शरीर में जीवन न हो तो मुर्दा शरीर अशुभ माना जाता है। इसी तरह खाली कलश भी अशुभ है। शरीर में मात्र श्वास चलते हैं, उसका नाम जीवन नहीं है, परन्तु जीवन में ज्ञान, प्रेम, उत्साह, त्याग, उद्यम, उच्च चरित्र, साहस आदि हो तो ही जीवन सच्चा जीवन कहलाता है। इसी तरह कलश भी अगर दूध, पानी, घी अथवा अनाज से भरा हुआ हो तो ही वह कल्याणकारी कहलाता है। भरा हुआ कलश मांगलिकता का प्रतीक है।
भारतीय संस्कृति ज्ञान, प्रेम, उत्साह,शक्ति, त्याग, ईश्वरभक्ति, देशप्रेम आदि से जीवन को भरने का संदेश देने के लिए कलश को मंगलकारी प्रतीक मानती है। भारतीय नारी की मंगलमय भावना का मूर्तिमंत प्रतीक यानि स्वस्तिक।

स्वस्तिक
स्वस्तिक शब्द मूलभूत सु+अस धातु से बना हुआ है। सु का अर्थ है अच्छा, कल्याणकारी, मंगलमय और अस का अर्थ है अस्तित्व, सत्ता अर्थात कल्याण की सत्ता और उसका प्रतीक है स्वस्तिक। किसी भी मंगलकार्य के प्रारम्भ में स्वस्तिमंत्र बोलकर कार्य की शुभ शुरूआत की जाती है। स्वस्ति न इंद्रो वृद्धश्रवा: स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदा:। स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु।। महान कीर्ति वाले इन्द्र हमारा कल्याण करो, विश्व के ज्ञानस्वरूप पूषादेव हमारा कल्याण करो। जिसका हथियार अटूट है ऐसे गरूड़ भगवान हमारा मंगल । बृहस्पति हमारा मंगल करो।

यह आकृति हमारे ऋषि-मुनियों ने हजारों वर्ष पूर्व निर्मित की है। एकमेव और अद्वितीय ब्रह्म विश्वरूप में फैला, यह बात स्वस्तिक की खड़ी और आड़ी रेखा स्पष्ट रूप से समझाती हैं। स्वस्तिक की खड़ी रेखा ज्योतिर्लिंग का सूचन करती है और आड़ी रेखा विश्व का विस्तार बताती है। स्वस्तिक की चार भुजाएँ यानि भगवान विष्णु के चार हाथ। भगवान श्रीविष्णु अपने चारों हाथों से दिशाओं का पालन करते हैं। स्वस्तिक अपना प्राचीन धर्मप्रतीक है।
देवताओं की शक्ति और मनुष्य की मंगलमय कामनाएँ इन दोनों के संयुक्त सामर्थ्य का प्रतीक यानि स्वस्तिक। स्वस्तिक यह सर्वांगी मंगलमय भावना का प्रतीक है। जर्मनी में हिटलर की नाजी पार्टी का निशान स्वस्तिक था। क्रूर हिटलर ने लाखों यहूदियों को मार डाला। वह जब हार गया तब जिन यहूदियों की हत्या की जाने वाली थी वे सब मुक्त हो गये। तमाम यहूदियों का दिल हिटलर और उसकी नाजी पार्टी के लिए तीव्र घृणा से युक्त रहे यह स्वाभाविक है। उन दुष्टों का निशान देखते ही उनकी क्रूरता के दृश्य हृदय को कुरेदने लगे यह स्वाभाविक है। स्वस्तिक को देखते ही भय के कारण यहूदी की जीवनशक्ति क्षीण होनी चाहिए। इस मनोवैज्ञानिक तथ्य के बावजूद भी डायमण्ड के प्रयोगों ने बता दिया कि स्वस्तिक का दर्शन यहूदी की भी जीवनशक्ति को बढ़ाता है। स्वस्तिक का शक्तिवर्धक प्रभाव इतना प्रगाढ़ है। अपनी भारतीय संस्कृति की परम्परा के अनुसार विवाह-प्रसंगों, नवजात शिशु की छठ्ठी के दिन, दीपावली के दिन, पुस्तक-पूजन में, घर के प्रवेश-द्वार पर, मंदिरों के प्रवेशद्बार पर तथा अच्छे शुभ प्रसंगों में स्वस्तिक का चिह्न कुमकुस से बनाया जाता है एवं भावपूर्वक ईश्वर से प्रार्थना की जाती है कि हे प्रभु! मेरा कार्य निर्विघ्न सफल हो और हमारे घर में जो अन्न, वस्त्र, वैभव आदि आयें वह पवित्र बनें।

शंख
शंख दो प्रकार के होते हैं- दक्षिणावर्त और वामवर्त। दक्षिणावर्त शंख दैवयोग से ही मिलता है। यह जिसके पास होता है उसके पास लक्ष्मीजी निवास करती हैं। यह त्रिदोषनाशक, शुद्ध और नवनिधियों में एक है। ग्रह और गरीबी की पीड़ा, क्षय, विष, कृशता और नेत्ररोग का नाश करता है। जो शंख श्वेत चंद्रकांत मणि जैसा होता है वह उत्तम माना जाता है। अशुद्ध शंख गुणकारी नहीं है। उसे शुद्ध करके ही दवा के उपयोग मे लाया जा सकता है।
भारत के महान वैज्ञानिक श्री जगदीशचन्द्र बसु ने सिद्ध करके दिखाया कि शंख बजाने से जहाँ तक उसकी ध्वनि पहुँचती है वहाँ तक रोग उत्पन्न करने
वाले हानिकारक जीवाणु (बैक्टीरिया) नष्ट हो जाते हैं। इसी कारण अनादि काल से प्रातःकाल और संध्या के समय मंदिरों में शंख बजाने का रिवाज चला आ रहा है।

संध्या के समय शंख बजाने से भूत-प्रेत- राक्षस आदि भाग जाते हैं। संध्या के समय हानिकारक जीवाणु प्रकट होकर रोग उत्पन्न करते हैं। उस समय
शंख बजाना आरोग्य के लिए फायदेमंद है। गूँगेपन में शंख बजाने से एवं तुतलेपन, मुख की कांति के लिए, बल के लिए, पाचनशक्ति के लिए और भूख बढ़ाने के लिए, श्वास-खाँसी, जीर्णज्वर और हिचकी में शंखभस्म का औषधि की तरह उपयोग करने से लाभ होता है।

नूडल्स हानिकारक, बहुत हानिकारक (Love Noodles? Think twice)

image

क्या आपका बच्चा नाश्ते में हर रोज इंस्टैंट नूडल्स खाने
की जिद करता है और आप उसे रोक नहीं पाते? या फिर
चाइनीज या प्रोसेस्ड भोजन को देख कर आपके लिए खुद
को रोकना मुश्किल हो जाता है? तो एक बार इन्हें खरीदते
वक्त इन पर छपे इंग्रेडियट्स ( सामग्री ) को ध्यान से पढ़ें
और अगर इसमें आपको कहीं एमएसजी ( मोनोसोडियम
ग्लूटामेट ) छपा दिख रहा हो, तो उस भोजन को खरीदने से बचें,
हो सकता है कि एमएसजी युक्त भोजन से आप न सिर्फ अपने
लिए कई बीमारियों को निमंत्रण दे दें, बल्किअपने बच्चे
या होनेवाले बच्चे के लिए भी खतरे को बुला लें.
क्या है एमएसजी
एमएसजी यानी मोनोसोडियम ग्लूटामेट अमीनो एसिड से निकलने
वाला तत्व है जिसका इस्तेमाल भोजन को अधिक स्वादिष्ट
बनाने के लिए किया जाता है. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन
(एफडीए) का कहना है कि भोजन में अगर तीन ग्राम से अधिक
मात्र में एमएसजी का प्रयोग हो तो ही वह सेहत के लिए
हानिकारक होता है. अगर आप फास्ट फूड या एमएसजी युक्त
डाइट का सेवन अधिक करते हैं तो इसके गंभीर परिणाम झेलने
पड़ सकते हैं.
सफेद रंग का चमकीला सा दिखने वाला मोनोसोडि़यम
ग्लूटामेट यानी अजीनोमोटो, एक सोडियम साल्ट है। अगर
आप चाइनीज़ डिश के दीवाने हैं तो यह आपको उसमें जरूर
मिल जाएगा क्योंकि यह एक मसाले
के रूप में उनमें इस्तमाल किया जाता है। शायद
ही आपको पता हो कि यह खाने का स्वाद बढ़ाने
वाला मसाला वास्तव में जहर यह धीमा खाने का स्वाद
नहीं बढ़ाता बल्कि हमारी स्वाद ग्रन्थियों के कार्य
को दबा देता है जिससे हमें खाने के बुरे स्वाद
का पता नहीं लगता। मूलतः इस का प्रयोग खाद्य
की घटिया गुणवत्ता को छिपाने के लिए किया जाता है।
यह सेहत के लिए भी बहुत खतरनाक होता है।
जान लें कि कैसे-
* सिर दर्द, पसीना आना और चक्कर आने
जैसी खतरनाक बीमारी आपको अजीनोमोटो से
हो सकती है। अगर आप इसके आदि हो चुके हैं और खाने
में इसको बहुत प्रयोग करते हैं तो यह आपके दिमाग
को भी नुकसान कर सकता है।
* इसको खाने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है।
चेहरे की सूजन और त्वचा में खिंचावमहसूस होना इसके
कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं।
* इसका ज्यादा प्रयोग से धीरे धीरे सीने में दर्द, सांस
लेने में दिक्कत और आलस भी पैदा कर सकता है। इससे
सर्दी-जुखाम और थकान भी महसूस होती है। इसमें पाये
जाने वाले एसिड सामग्रियों की वजह से यह पेट और गले
में जलन भी पैदा कर सकता है।
* पेट के निचले भाग में दर्द, उल्टी आना और
डायरिया इसके आम दुष्प्रभावों में से एक हैं।
* अजीनोमोटो आपके पैरों की मासपेशियों और घुटनों में
दर्द पैदा कर सकता है। यह हड्डियों को कमज़ोर और
शरीर द्वारा जितना भी कैल्शिम लिया गया हो, उसे कम
कर देता है।
* उच्च रक्तचाप की समस्या से घिरे लोगों को यह
बिल्कुल नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे अचानक ब्लड
प्रेशर बढ़ और घट जाता है।
* व्यक्तियों को इससे माइग्रेन होने
की समस्या भी हो सकती है। आपके सिर में दर्द
पैदा हो रहा है तो उसे तुरंत ही खाना बंद कर दें।
* अजीनोमोटो की उत्पादन प्रक्रिया भी विवादास्पद है :
कहा जाता है कि इसका उत्पादन जानवरों के शरीर से
प्राप्त सामग्री से भी किया जा सकता है।
*अजीनोमोटो बच्चों के लिए बहुत हानिकारक है। इसके
कारण स्कूल
जाने वाले ज्यादातर बच्चे सिरदर्द के शिकार हो रहे हैं।
भोजन में एमएसजी का इस्तेमाल या प्रतिदिन
एमएसजी युक्त जंकफूड और प्रोसेस्ड फूड का असर
बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर पड़ता है। कई
शोधों में यह बात साबित हो चुकी है कि एमएसजी युक्त
डाइट बच्चों में मोटापे की समस्या का एक कारण है। इसके
अलावा यह बच्चों को भोजन के प्रति अंतिसंवेदनशील
बना सकता है। मसलन, एमएसजी युक्त भोजन अधिक
खाने के बाद हो सकता है कि बच्चे को किसी दूसरी डाइट
से एलर्जी हो जाए। इसके अलावा, यह बच्चों के व्यवहार
से संबंधित समस्याओं का भी एक कारण है।
छिपा हो सकता है अजीनोमोटो अब पूरी दुनिया में
मैगी नूडल बच्चे बड़े सभी चाव से खाते हैं, इस मैगी में
जो राज की बात है वो है Hydrolyzed groundnut
protein और स्वाद वर्धक 635 Disodium
ribonucleotides यह कम्पनी यह दावा करती है
कि इसमें अजीनोमोटो यानि MSG नहीं डाला गया है।
जबकि Hydrolyzed groundnut protein पकने के बाद
अजीनोमोटो यानि MSG में बदल जाता है और
Disodium ribonucleotides इसमें मदद करता है।

चाय कॉफी में दस प्रकार के जहर (Tea & coffee contains ten types of toxins)

Have you seen any change in water color when a tree leaf in put into it?
But when you put Tea leaves into water and boil it, you observe a change in its color. This is because original tea leaves are sold at high rates and the remaining part of the tree  with added colors and harmful chemicals in them are sold to us.

Tea leaves were originally used by Britishers in India . They planted Tea at various locations in India . In europe and other cold continents , there is no sunlight for many months so the blood pressure becomes low. Tea leaves basically increase the blood pressure and heat. Tea was used to increase the blood pressure.

If you sit on a big ice cube for some time then your Blood pressure increases. In very cold countries it is good to drink tea or coffee but only in small quantities if your BP is low. In hot and humid countries tea and coffee are not good products. But still i dont recomment tea and coffee ,you should drink hot water or herbal tea even if you live in cold countries.

In todays age majority of the population consumes tea and coffee, so they dont consider it as a harmful . They are very harmful for our nervous system. We feel fresh for some time but it is just an illusion to trick your brain. Just as when you are tired and someone shows you a hunter or gun .You start working again but that doesnt mean your weakness is gone. Tea and coffee act as hunter or gun for our nervous system.

Tea , coffee damages your internal organs, make the intestine weak, products like chocolate, cakes ,biscuits, pizza, any type of breads,ice creams ,cold drinks stick to your teeth and intestines. Also they contain various preservatives , flavours and processed with chemicals. Those who wish healthy body should control their tongue and drink fresh juices and healthy foods instead.Also cold water is very dangerous for digestion system.

No Animal eats the tea leaves or drinks tea/coffee. If you feed tea and coffee to Cows, dogs, cats , birds they wont eat the leaves or drink the liquid. Animals can sense whether the leaves are harmful or healthy. Even they dont eat marijuana leaves, tobacco leaves and leaves of other harmful plants. They dont drink colas and eat chocolates.

Indians waste near about 80 thousand crore rupees daily in tea consumption. Tea and coffee has 20 % positive side but 80 % side is negative . Big brands have been continuously advertising about the good qualties only . The following harmful chemicals are found in tea and coffee:

1. (Tannin)टेनिन नाम का जहर 18 % होता है, जो पेट में छाले तथा पैदा करता है। (Causes indigestion and constipation. Harms the liver. It also makes the skin dry)
2. (Theanine) थिन नामक जहर 3 % होता है, जिससे खुश्की चढ़ती है तथा यह फेफड़ों और सिर में भारीपन पैदा करता है। (Leads to psychosis and a feeling of heaviness in the head)
3. (Caffeine)कैफीन नामक जहर 2.75 % होता है, जो शरीर में एसिड बनाता है तथा किडनी को कमजोर करता है। (Increase in blood pressure and acidity,reduces sprem count,make the kidneys weak)
4. (Volatile)वॉलाटाइल नामक जहर आँतों के ऊपर हानिकारक प्रभाव डालता है।
5. (Carbonic)कार्बोनिक अम्ल से एसिडिटी होती है।
6. (Paimin)पैमिन से पाचनशक्ति कमजोर होती है।
7. (Aromic oil)एरोमोलीक आँतड़ियों के ऊपर हानिकारक प्रभाव डालता है। (Above 3 Harms the intestines and creates gastric problems)
8. (Cyanogen)साइनोजन अनिद्रा तथा लकवा जैसी भयंकर बीमारियाँ पैदा करती है। (Causes insomnia and serious problems like paralysis)
9. (oxalic)ऑक्सेलिक अम्ल शरीर के लिए अत्यंत हानिकारक है। (Very dangerous for body)
10.(stenoyl) स्टिनॉयल रक्तविकार तथा नपुंसकता पैदा करता है। ( Creates Blood related problems and infertility )

* चाय वीर्य को पतला बना देती है -महात्मा नारायण स्वामी
* चाय ने हमारे हजारों स्त्री-पुरषों की भूख उड़ा दी है -महात्मा गाँधी
* चाय-कॉफी से बुद्धि का नाश होता है -स्वामी दयानंद सरस्वती
* चाय से अनिद्रा-रोग होता है, स्मरणशक्ति नष्ट होती है तथा मूत्राशय कमजोर हो जाता है -एडमंड शेफोटसबरी
* चाय पीने से थकावट मिटती नहीं अपितु बढ़ती है -डॉ. खिस कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
* चाय से नासूर पैदा होता है  -डॉ. हंसकेसर वोंशिन्ग्टन (अमेरिका)
* चाय पीने से पेट की गड़बड़ियाँ बढ़ रही हैं -डॉ. कार्तिकेय बोस
* चाय पीने से नेत्रों के नीचे कालापन और मानसिक उदासी छा जाती है – डॉ जे डब्ल्यू. मार्टिन
* चाय के बाद पेशाब में यूरिक एसिड दुगना हो जाता हैं  -प्रो. मेंडल
* बच्चों को चाय पिलाना शराब पिलाने से भी अधिक हानिकारक हैं -डॉ. लीला क्लाइस्ट
* दिन में तीन कप चाय पीने से मासंपेशियों में खिंचाव, सनायुरोग, चिंता, भय, ह्रदयकम्प तथा मस्तिष्क के रोग हो जाते हैं -डॉ. गिनमैन (अमेरिका)
* चाय-कॉफी से रक्तचाप बढ़ता है -मारिस फिशबेन
* चाय-कॉफी का अधिक सेवन करनेवालों को स्वप्नदोष आदि बिमारियाँ हो जाती हैं -हेरी मिलर
* चाय पीने से कब्ज होता है -डॉ. ब्लाड

खाली पेट चाय-कॉफी से धातुनाश होता है,कमर कमजोर होती है, गुर्दे और वीर्यग्रंथियों को नुकसान पहुँचता है तथा ओज क्षीण व वीर्य पतला हो जाता है : सावधान! अपने और दूसरों के स्वास्थ्य की रक्षा करें, चाय से खुद बचें व दूसरों को बचायें. Empty stomach consumption of tea and coffer leads to weak or dry sperm. Daily consumers of tea become victims of diabetes, giddiness, throat afflictions, blood impurity, blood pressure ,sugar ,uric acid , kidney problems , cancer and dental problems. Tea and coffee slowly accumulate into your system and kills your immunity . Hence it is wise to abstain from drinking tea or coffee.

माइक्रोवेव अवन में खाना पकाने सेपहले जरा सोचे

image

महानगरों की भागदौड़ भरी जिंदगी में माइक्रोवेव अवन
खास जरूरत बन गए हैं। तुरत-फुरत जायकेदार
खाना बनाना हो या फिर फटाफट उसे गर्म करना हो,
इसके लिए आजकल माइक्रोवेव को सबसे मुफीद
समझा जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये
माइक्रोवेव अवन का ज्यादा इस्तेमाल बेहद नुकसानदेह
है, खासकर खासकर प्रेग्नेंट लेडीज़ के लिए। रिसर्च में
साबित हो चुका है कि माइक्रोवेव से खतरनाक
इलेक्ट्रो मैगनेट रेडिएशन होता है, जिससे पेट में पल रहे
बच्चे तो नुकसान हो सकता है या मिस-कैरिज
हो सकता है। इसके अलावा, आम लोगों की सेहत पर
भी इसका खराब असर पड़ सकता है।
माइक्रोवेव अवन से होनेवाले नुकसानों को लेकर
दुनिया भर में रिसर्च की जा रही हैं। अमेरिका में
जहां इस बारे में रिसर्च जारी हैं, वहीं यूरोपियन देशों में
खुलकर इसका विरोध किया जा रहा है। यही वजह है
कि 1976 में सोवियत रूस में माइक्रोवेव अवन पर रोक
लगा दी गई थी। अमेरिका में एक स्टडी में पता चला है
कि दो साल या उससे ज्यादा पुराने 56
फीसदी माइक्रोवेव अवन में रेडिएशन काफी बढ़
जाता है। इससे बांझपन, ब्रेस्ट कैंसर, नर्वस सिस्टम
और डीएनए को नुकसान हो सकता है। मिस-कैरिज
या कुपोषित बच्चे जैसी दिक्कतें भी हो सकती हैं।
फोटिर्स हॉस्पिटल में सीनियर गाइनॉकॉलजिस्ट
शिवानी सचदेव के मुताबिक माइक्रोवेव अवन के
ज्यादा इस्तेमाल से पेट में पल रहे बच्चे की सेहत पर
बुरा असर पड़ सकता है। उसके ब्रेन, हार्ट और लिंब्स
आदि को नुकसान हो सकता है। प्रेग्नेंट लेडीज़
को सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि पेट में पल रहे बच्चे
का हर सेल तेजी से डिवाइड होता है। इसके
अलावा आम लोगों में भी उन सेल्स को नुकसान
हो सकता है, जो तेजी से डिवाइड होते हैं, जैसे कि बोन
मैरो के सेल। इससे सेल का डीएनए डेमेज हो सकता है
और सेल अबनॉर्मल हो सकता है।
[ जारी है ]
वैसे, माइक्रोवेव अवन के नुकसान को लेकर तीन
कैटिगरी में स्टडी की जा रही हैं – कैंसर में
इसकी भूमिका, खाने की न्यूट्रिशन वैल्यू के गिरने और
इससे निकलनेवाली वेव्स के तमाम नुकसान। कैंसर के
बारे में जहां अभी स्टडी चल रही हैं, वहीं अब तक हुई
स्टडी के मुताबिक माइक्रवेव अवन खाने में विटामिन
बी, सी और ई, वाइटल एनर्जी और न्यूट्रिशन कम
करते हैं। वैसे, माइक्रोवेव अवन के इस्तेमाल से मुंह
जलने के मामले भी सामने आए हैं क्योंकि इसमें बाहर से
बर्तन ठंडा रहता है, जबकि अंदर रखी खाने-पीने
की चीज बेहद गर्म हो जाती है। छोटे बच्चों की दूध
की बोतल माइक्रोवेव में कभी गर्म नहीं करनी चाहिए।
सीनियर डॉक्टर के. के. अग्रवाल का कहना है
कि जबसे इलेक्ट्रो मैगनेटिक रेडिएशन
पैदा करनेवाली चीजे मसलन मोबाइल, माइक्रोवेव अवन,
कंप्यूटर आदि आए हैं, कैंसर बढ़े हैं।
हालांकि इनका सीधा कोई नाता है या नहीं, इस बारे में
अभी स्टडी की जा रही हैं। लेकिन इससे खाने
की न्यूट्रिशनल वैल्यू तो कम होती ही है।
माइक्रोवेव अवन से होने वाले नुकसान को कम करने के
लिए कई तरह के उपकरण और चीजें भी बाज़ार में आ
गई हैं। ऐसा ही खास तरह का एप्रैन
बनानेवाली आइबा कंपनी के जॉइंट एमडी गिरीश चंद
कहते हैं कि माइक्रोवेव अवन अगर 5 मेगावॉट का है
तो उससे इंसुलिन बनना बंद होने का खतरा होता है,
जिससे डायबीटीज हो सकती है। इसी तरह 1/20
मेगावॉट से मेमरी लॉस, 1/100 से कैंसर, 1/1000 से
ब्रेन ट्यूमर और दिल
की बीमारी का खतरा हो सकता है। उनका दावा है
कि ग्रेफाइड बेस्ड एप्रैन पहनने से हानिकारक रेडिएशन
का असर 90 फीसदी तक कम हो जाता है, इसीलिए
काफी लोग इसे खरीद रहे हैं।
कैसे करता है अवन काम: माइक्रोवेव अवन में माइक्रोवेव
रेडिएशन के जरिए खाने में मौजूद मॉलिक्यूल (अणु)
आपस में टकराते हैं, जिससे गर्मी पैदा होती है और
खाना जल्द बनता है। ये माइक्रोवेव्स
इलेक्ट्रोमैगनेटिक स्पेक्ट्रम का हिस्सा हैं और नॉन-
मेटल बरतनों से आसानी से पास हो जाती हैं। इसमें न
किसी तरह की गंध होती है और न ही ये दिखती हैं। ऐसे
में इन्हें पहचाना मुश्किल है। खास यह है कि माइक्रोवेव
अवन ऑन करने पर ही रेडिएशन होता है और स्विच
ऑफ करने पर रुक जाता है, लेकिन जब यह ऑन
होता है तो शरीर को नुकसान पहुंचाता है
मांस माइक्रोवेव ओवन में पकाने से उसमे d-
Nitrosodiethanolamines नामक एक कैंसर पैदा करने
वाली तत्व का गठन होता है ।
2. दूध और अनाज माइक्रोवेव ओवन में गरम करने
या पकाने से उनके कुछ अमीनो एसिड परिवर्तित होक
कैंसर पैदा करने वाली तत्व बन जाता है ।
3. बेबी फ़ूड को माइक्रोवेव ओवन में गरम करने से उसमे
एक ऐसा तत्व उतपन्न होता है जो बच्चे
की तंत्रिका तंत्र और गुर्दे के लिए ज़हर होता है ।
## भोजन की पोषक तत्वों के विनाश होता है :
1. रूसि शोधकर्ताओं ने अपने माइक्रोवेव ओवन
परीक्षण में सभी खाद्य पदार्थों में 60 से 90% Food
Value की कमी पायी ।
2. माइक्रोवेव ओवन में पके सभी खाद्य पदार्थों में
विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन सी, विटामिन
ई, आवश्यक खनिज और lipotropic
कारकों की कमी पायी गयी ।
## पैकेजिंग से खाद्य पदार्थों में विषैले
रसायनों की रिसाव होता है :
1. माइक्रोवेव खाद्य पदार्थों जैसे पिज्जा, फ्रेंच
फ्राइज़, पॉपकॉर्न के ऊष्मा-शोशक पैकेजिंग से कई
जहरीले रसायनों के रिसाव उसमे होता है ।
माइक्रोवेव ओवेन में पका खाना खानेवालों के शारीर
में क्या होता है ?
## माइक्रोवेव में पके खाद्य पदार्थों के उपभोगताओं
में पैथोजेनिक परिवर्तन पाया गया है, जैसे :
1. लसीका संबंधी विकार पाया गया जो कुछ प्रकार
के कैंसर रोकने कि क्षमता को कम किया ।
2. रक्त में कैंसर सेल के गठन दर की वृद्धि हुई ।
3. पेट और आंतों के कैंसर होने की दर में बृद्धि आई ।
4. पाचन विकार की उच्च दर और उन्मूलन
प्रणालियों के टूटने का क्रम देखा गया ।

Importance of semen preservation(Celibacy)

Importance of semen preservation(brahmacharya)

sprem preservation (brahmacharya)is very essential

* “Rasad raktam tato mamsam mamsanmedhah prajayate; Medasosthi tato majja majjayah sukrasambhavah— from food comes juice or chyle, from chyle blood, from blood flesh, from flesh fat, from fat bones, from bones marrow and lastly from marrow semen.” Semen is the quintessence of food or blood. One drop of semen is manufactured out of 40 drops of blood according to the medical science. According to Ayurveda it is elaborated out of 80 drops of blood. Just as
sugar is all-pervading in the sugar-cane, butter in milk, so also semen is pervading the whole body.

* Just as the butter-milk is thin after butter is removed, so also semen is thinned by its wastage. The more the wastage of semen the more is the weakness.Why do you lose the energy that is gained in many weeks and months for the sake of a little momentary sensual pleasure?

* In Yoga Sastras it is said: “Maranam bindupatanat jivanam bindu-rakshanat” —falling of semen brings death and preservation of semen gives life.” Semen is the real vitality in man. It is the hidden treasure for man. It imparts Brahma-Tejas to the face and strength to the intellect.

*Ojas is spiritual energy that is stored up in the brain. By sublime thoughts, meditation, Japa, worship and Pranayama, the sexual energy can be transmuted into Ojas energy and stored up in the brain. This energy can be utilised for divine contemplation and spiritual pursuits.

*Brahmacharya(semen preservation) is the basis for acquiring immortality. Brahmacharya brings material progress and psychic advancement. It gives tremendous energy, clear brain, gigantic will-power, bold understanding, retentive memory. Those who have not observed the vow of celibacy become slaves of anger, jealousy, laziness and fear. If you have not got your senses under control, you venture to do foolish acts which even children will not dare to do.

*Discharge of semen only to produce offspring is also considered brahmacharya. sexual intercourse should not be performed at day time and especially at evening time if you wish for healthy and cultured children.Also intercourse should not be performed on full moon and no moon days.

*जो भोजन पचता है , उसका पहले रस बनता है। (भोजन से रस बनने में ५ दिन लगते हैं) पाँच दिन तक उसका पाचन होकर रक्त बनता है। पाँच दिन बाद रक्त से मांस , उसमें से ५ – ५ दिन के अंतर से मेद , में से हड्डी , हड्डी से मज्जा और मज्जा से अंत में वीर्य बनता है। स्त्री में जो यह धातु बनती है उसे ‘ रज ‘ कहते हैं। इस प्रकार वीर्य बनने में करीब ३०दिन व ४ घण्टे लग जाते हैं। वैज्ञानिक बताते हैं कि ३२ किलो भोजन से ८०० ग्राम रक्त बनता है. और ८०० ग्राम गृह ओज मनुष्य को परम लाभ-आत्मदर्शन कराने में सहायक बनता है। आप जहाँ-जहाँ भी किसी के जीवन में कुछ विशेषता, चेहरे पर तेज, वाणी में बल , कार्य में उत्साह पायेंगे , वहाँ समझो वीर्यरक्षण का ही चमत्कार है।

*परमात्मा द्वारा अपनी सारी शक्ति बीज रुप में मनुष्य को दी गई है। वह शक्ति कुण्डलिनी कहलाती है। आधुनिक परमाणु विज्ञान की भाषा में कुण्डलिनी (अटॉमिक रिएक्टर) है | मूलाधार चक्र में कुण्डलिनी महाशक्ति अत्यन्त प्रचण्ड स्तर की क्षमताएँ दबाए बैठी है। पुराणों में इसे महाकाली के नाम से पुकारा गया है। कामशक्ति का अनुपयोग , सदुपयोग, दुरुपयोग किस प्रकार मनुष्य के व्यक्तित्व को प्रभावित करता है , उसे आध्यात्मिक काम विज्ञान कहना चाहिए। इस शक्ति का बहुत सूझ-बूझ के साथ प्रयोग किया जाना चाहिए, यही ब्रह्मचर्य का तत्व ज्ञान है। बिजली की शक्ति से अगणित प्रयोजन पूरे किए जाते हैं और लाभ उठाए जाते हैं , पर यह तभी होता है जब उसका ठीक तरह प्रयोग करना आए , अन्यथा चूक करने वाले के लिए तो वही बिजली प्राणघातक सिद्ध होती है।

*क्या आपने कभी यह सोचा है कि शेर इतना ताकतवर क्यों होता है? वह अपने जीवन में केवल एक बार बच्चों के लिये मैथुन करता है। जिस वजह से उसमें वीर्य बचा रहता है और वह इतना ताकतवर होता है।
हमारे भारतवर्ष में एसे महान राजा, ऋषि, महात्मा हुए जो शेर से भी लड लेते, हमारे शरीर के वजन जीतने शस्त्र उठा कर युद्ध लड लेते, उनकी मुठ्ठी मे जकडन थी, खुन मे चुंबकीय आकर्षण था ।आज के युवाओं ने वीर्य नाष करके खुद को कमजोर बना लिया है और बल, बुद्धि, तेज, नेत्रज्योति, धातु का नाश कर रहे हैं मेडीकल साइंस कहता है ये प्राकृतिक है और वीर्य को बहाने से कुछ नहीं होता पर इन बातों को सुनकर अपने आप को बर्बाद ना करे।आप आयुर्वेद के सिद्धांतो पर चले।

*परशुराम, हनुमान,भीष्म ,कालिदास ,तुलसीदास रामकृष्ण परमहंस ,विवेकानंद ,स्वामी रामतीर्थ महात्मा बुद्ध महान ब्रह्मचारी थे।
(जो केवल संतान प्राप्ति के लिए सम्भोग करे वह स्त्री पुरुष भी ब्रह्मचारी कहे गए है)

*आयुस्तेजोबलं वीर्यं प्रज्ञा श्रीश्च महदयशः | पुण्यं च प्रीतिमत्वं च हन्यतेऽब्रह्मचर्या ||
‘आयु, तेज, बल, वीर्य, बुद्धि, लक्ष्मी, कीर्ति, यश तथा पुण्य और प्रीति ये सब ब्रह्मचर्य का पालन न करने से नष्ट हो जाते हैं |’

यदि कोई १२ साल तक,बिना रुकावट के, कठोर और सटीक ब्रह्मचर्य का पालन करता है(मानसिक और शारीरिक दोनों तरह से) तो एक नाड़ी जिसको मेधा नाड़ी कहा जाता है,सक्रिय हो जाती है,जागृत हो जाती है और उस व्यक्ति को भूत,वर्त्तमान और भविष्य की जानकारी आने लागती है,एवं वह महासमाधि में कभी भी प्रवेश कर सकता है।उस व्यक्ति की मेधा इतनी ज्वलंत हो जायेगी के वह किताब के पन्ने को एक बार मात्र देखने से सदा के लिए याद रख सकेगा।इसे फ़ोटो मेमोरी भी कहते है।

If one can observe strict and perfect Brahmacharya(Celibacy) without a break for 12 years, then a particular nerve called Medha nadi develops in a person. With the development of this nerve, one gets the sixth sense (super consciousness), by which one can know the past, present and future and enter the mahasamadhi (bliss) state any time and also develops the power of photo memory.