श्री राम नाम का अद्भुत माहात्म्य ।

भगवन्नाम का महत्व भगवान् से भी अधिक होता है । यहां तक कि भगवान् को भी अपने ‘नाम’के आगे झुकना ही पड़ता है । यही कारण है भक्त ‘नाम’के प्रभावसे भगवान् को वश में कर लेते है ।  निम्नलिखित कथासे ‘राम’ नामकी महिमापर प्रकाश पड़ता है ।

१. समर्थ श्री रामदास स्वामी उच्च कोटि के संत हुए है जिन्हें श्री हनुमान जी का अवतार माना जाता है । धर्म रक्षा ,संत सेवा और भक्ति की स्थापना जैसे उत्तर भारत मे श्रीराम ही स्वामी श्री रामानंदाचार्य के रूप में प्रकट हुए वैसे ही रघुपति के प्रिय भक्त श्री हनुमान जी पश्चिम भारत मे श्री रामदास के रूप में प्रकट हुए । इनके सम्प्रदाय को रामदासी सम्प्रदाय कहा जाता है और इनका जप मंत्र है श्री राम विजय मंत्र – श्रीराम जयराम जय जय राम। एक दिन एक मनुष्य श्री रामदास स्वामी के पास आया और बोला – महाराज मुझे किस मंत्र का जप करना चाहिए ? मुझे मंत्र दीक्षा दीजिये । रामदास स्वामी ने कहा -श्री राम नाम  सबसे सरल साधन है , इसकी  महिमा शास्त्रो में भरी पड़ी है । भगवान महाकाल भी श्रीराम नाम का ही जप करते है ।

उस मनुष्य ने फिर भी मंत्र दीक्षा देने का हठ किया । उसने कहा -महाराज हमे तो कोई शक्तिशाली मंत्र चाहिए ।आप कृपा करके कोई मंत्र दे दीजिए ।बहुत समझाने पर भी वह नही माना तब रामदास स्वामी ने इसके कान में कह दिया – श्री राम । अब यह राम नाम का बीज तेरे अंदर मैने स्थापित कर दिया है । वह मनुष्य बोला – महाराज , मुझे तो लगा कोई शक्तिशाली मंत्र मिलेगा परंतु आपने कहा श्रीराम । यह नाम तो हर कोई जानता है इसमें नया क्या है ? स्वामी बोले – यही नाम मनमंत्र है । इसकी शक्ति बड़ी प्रचंड है , इसीके बल पर श्री शंकर विष पान कर गए और हनुमान ने समुद्र लांघ कर लंका दहन कर दिया । इतने पर भी वह व्यक्ति तर्क करने लगा तब रामदास स्वामी ने कहा – देखो तुम्हे यदि इस राम नाम पर संदेह है तो तुम मुख में जल भरकर इस राम नाम को बाहर थूक दो । उसने मुह में जल भरा और सामने एक बहुत विशाल पत्थर शिला पर उसे थूका। 

जैसे ही वह जल मुख से बाहर आकर पत्थर शिला को स्पर्श हुआ वैसे ही उस विशाल पत्थर शिला को भेदते हुए वह जल आर पार निकल गया और पृथ्वी के भीतर एक गड्ढा करते हुए चला गया । वह व्यक्ति देखता रह गया कि यह की आश्चर्य हो गया । उसने स्वामी जी से क्षमा याचना की और बहुत दुखी हुआ। स्वामी जी बोले – राम नाम की शक्ति अनंत है , ये महामंत्र है -पर कलयुग के लोग चमत्कार देखे बिना बात मानते नही इसीलिए प्रभु लीला करते है ।

२. राम राज्य का समय था । मर्यादापुरुषोत्तम भगवान् श्रीराम अश्वमेध नामक महान् यज्ञका अनुष्ठान कर रहे थे । ब्रह्मर्षि वसिष्ठ और विश्वामित्र सदृश ब्रह्मवेत्ताओ के सानिध्य में यज्ञका अनुमान चल रहा था । उस पावन अव्सरका लाभ उठानेके लिये देश-विदेशो से अनेक राजा महाराजा अयोध्या पधारे हुए थे ।
एक सामन्त राजा, जो आरवेटके लिये वनमें गया हुआ था, सम्राट श्रीरामद्वारा यज्ञकी खुलना पाकर संधि अयोध्या लौट आया तथा यज्ञमण्डपके बाहरसे ही उसने ‘वसिष्ठ आदि महर्षियोंक्रो मेरा प्रणाम’ कहकर नमस्कार किया और नित्य कर्मके लिये अपने स्थान को चला गया ।

देवलोकसे देवर्षि नारद भी भगवान् श्रीरामके यज्ञ वैभव को देखनेके लिये अयोध्या आये हुए थे । सामन्त राजाके ‘वसिष्ठ आदि महर्पियोक्रो प्रणाम’ इन शब्दों को सुनकर देवर्षि नारदके मनमें एक युक्ति सूझी । उन्होंने सोचा कि इसी बहाने ‘राम’ नामकी महिमा को क्यों न लोगोंमें प्रकट किया जाय । वे तुरंत महर्षि विश्वामित्रके पास गये और बोले-

महर्षिवर देखीये आपने इस सामन्त की धृष्टता , वास्तवमें महर्षि बसिष्ठ की अपेक्षा आप महाराज श्रीरामके अत्यन्त उपकारी है । श्रीराम आपसे ही समस्त अस्त्र शस्त्रो का ज्ञान प्राप्त का सका है । आपकी ही कृपा से श्रीरामक को जनक नन्दिनी सीताजी मिली है । श्रीरामके द्वारा रावण जैसे क्रूर महाबलशाली राक्षसका समूल नाश करना आपके ही अनुग्रहका फल है । फिर इस मूर्ख सामन्तने जान बूझकर आपकी महत्ताका अपमान करनेके लिये महर्षि वसिष्टके नाम को प्रथम स्थान दिया है ।

फिर क्या था महर्षि विश्वामित्र क्रोध से पागल से हो गये । वे तुरंत श्रीराम के सामने जाकर बोले- राजन् ! आपके दरबार में एक सामन्तने मुझे अपमानित करने की चेष्टा कर अक्षम्य अपराध किया है । इसके दण्डके रूपमें आपक्रो आज़ सूर्यास्तसे पहलेे उस सामन्त के सिर को मेरे चरणों में समर्पित करना होगा अन्यथा मै शाप दे दूँगा ।

भगवान् राम महर्षि की आज्ञा को शिरोधार्य कर तुरंत उस सामन्त की खेज मे लग गये । उधर देवर्षि नारद सीधे उस सामन्त राजाके पास पहुंचे और उसे संकट की सूचना दी । सामन्त उनके चरणोंपर गिर पडा और बोला – भगवन् ! कृपया इस संकट से मुझे बचाइये । अनजाने मे मै श्रीराम के प्रति अपराधी बन गया हूँ । तीनों लोको में मुझे शरण देनेवाला कोई नही दीखता । अब तो आप ही किसी उपाय से बचा सकते है ।

नारदजी कुछ सोचकर बोले – तब एक उपाय है । तुम इसी समय रामभक्त हनुमान जी की माता अञ्जना देवी की शरणमे जाओ । हनुमान जी माताके प्रति प्रगाढ़ भक्ति रखते है । वे माता की आज्ञा टाल नहीं सकते । माताकी आज्ञा होनेपर वे ही तुम्हे बचा सकते है ।

सामन्त तुरंत उस स्थानपर गया, जहां अञ्जना देवी पूजा कर रही थी । उसने उनके चरण पकड़कर अभय दान देने की प्रार्थना की । पूछनेपर सारा वृत्तांत सुनाकर रक्षा करने के प्रार्थना की । अञ्जना देवी ने अपने पुत्र हनुमान जी को बुलाया और उनसे राजा की रक्षा करने की बात कही । माता की आज्ञा सुनकर हनुमान जी क्षणभर के लिये विचलित हो गये । राजाकी रक्षा करने का अर्थ था अपने आराध्य प्रभु के नाते द्रोह । फिर भी उन्होंने माता की आज्ञा मान ली और राजा को अभयदान किया । हनुमान जी ने अपनी पूँछ बढायी, उसे लपेटकर एक दुर्ग बनाया और उसीके भीतर बैठकर राजाके साथ ध्यानमग्न होकर ‘राम’ नाम का अनवरत जप करने लगे ।

इधर श्रीराम सामन्त को खोजते खोजते उसी स्थलपर आ पहुंचे । नारदजीने उन्हें दुर्ग को दिखाकर उस मे सामन्तके छिपे रहने की बात बतायी । तब श्रीरामने दुर्ग को लक्ष्यकर अपने अमोघ बाणो का प्रयोग करना प्रारम्भ किया । आकाश गूँजने लगा । बाणो की सर्र-सर्र की आवाज दिशाओं का प्रतिध्वनित करने लगी । लेकिन जिस वेग से श्रीराम के बाण धनुषसे छूटते थे, उसी वेगसे दुर्ग को प्रदक्षिणा कर श्रीरामके चरणो मे वापस लौटकर आ गिरते थे । अब बाणों के स्थान को अस्र प्रयोग किये गए लेकिन सफलता नहीं मिली । श्रीराम के क्रोध का पारावार उमड़ पड़।  स्थिति को बिगड़ते देख देवर्षि नारद श्रीराम के समीप आये और बोले – महाराज ! कृपाकर अरत्रों का प्रयोग बंद को । फिर ध्यान से इस ध्वनि को सुने ।

भगवान् श्रीरामने अस्त्रो का प्रयोग बंद किया । शान्त वस्तावरण मे ‘राम राम’ की ध्वनि स्पष्ट सुनायी देने लगी, जो दुर्गसे निकल रही थी । श्रीराम ने पास जाकर देखा । दुर्ग के भीतर राम नाम जप रहे ध्यान मग्न मारुति और भयभीत राजा दिखायी पड़े । श्रीराम बोले – हनुमान् ! यह क्या मैने जिस व्यक्ति का सिर महर्षि विश्वामित्र को भेट देनेका वचन दिया है, तुम उसकी रक्षा कर रहे हो ,क्या मुझे अनृतवादी बनाना तुम्हारे लिये न्यायसंगत है ?

हनुमान् जी ने भगवान् के चरण पकड़ लिये और बोले-प्रभो ! यह मेरे बसका काम नहीं है । फिर मैं माता की  आज्ञाका तिरस्कार नहीं कर सका । तब मुझे आपके नामके सिवाय कोई रक्षक नहीं दीख पडा।

अब श्रीराम को अनृतवादी होने से बचाने का भार नारदजी का था । वे स्वयं आगे आकर बोले –  महर्षि विश्वामित्र ने इस सामन्त के सिरको उनके चरणों में  समर्पित करने की बात कही है । इसका अर्थ यह नहीं कि इसके सिरको काटकर ही रखा जाय । अत: यह महर्षि विश्वामित्र के चरणोंपर सिर रखकर दण्डवत करे, जिमसे अपके वचनका भी पाला हो जायगा और  राजाकी रक्षा भी होगी ।

देवर्षि नारदजीके सुझावके अनुसार सामन्तने विश्वामित्रके चरणोंपर माथा टेककर साष्टांग प्रणाम किया । महर्षिका क्रोध भी शान्त हुआ । इस तरह राम से बड़ा राम का नाम है यह बात श्री नाराद जी ने सिद्ध की ।