सुंदर कथा २७ (श्री भक्तमाल – श्री शबरी जी) Sri Bhaktamal- Sri Shabri ji

त्रेतायुगका समय है, वर्णाश्रम धर्मकी पूर्ण प्रतिष्ठा है, वनों-में स्थान-स्थानपर ऋषियो के पवित्र आश्रम बने हुए हैं । तपोधन ऋषियो के यज्ञधूमसे दिशाएँ आच्छादित और वेदध्वनिसे आकाश मुखरित हो रहा है । ऐसे समय दण्डकारण्यमे एक पति-पुत्र-विहीना भक्ति श्रद्धा-सपन्ना भीलनी रहती थी; जिसका नाम था शबरी ।

शबरीने एक बार मतंग ऋषिके दर्शन किये । संत दर्शनसे उसे परम हर्ष हुआ और उसने विचार किया कि यदि मुझसे ऐसे महात्माओ की सेवा बन सके तो मेरा कल्याण होना कोई बडी बात नहीं है । परंतु साथ ही उसे इस बातका भी ध्यान आया कि मुझ नीच कुल में उत्पन्न अधम नारी की सेवा ये स्वीकार कैसे करेंगे ? अन्तमें उसने यह निश्चय किया कि यदि प्रकट रूपसे मेरी सेवा स्वीकार नहीं होती तो न सही, मैं इनकी सेवा अप्रकट रूपसे अवश्य करूँगी । पढना जारी रखे