जय श्री सीताराम।जय श्री गुरुदेव भगवान

यह भक्तमाल प्रकाशित कर आपने बहुत बड़ा उपकार किया है।वैष्णव जगत में

Anil Yadav