मैं धन्य हुआ भक्त माल के स्मरण मात्र से …ऐसा लगा जैसे सारे तीर्थ के रस इसी में है

Gopal